चतरा। घूस लेते इंजीनियर को ACB  की टीम ने रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। कूप खनन की राशि भुगतान के एवज में इंजीनियर 10 हजार रूपये घूस ले रहा था। मनरेगा के कनीय अभियंता निजामुद्दीन की शिकायत लाभुक ने एसीबी से की, जिसके बाद एसीबी की टीम ने मनरेगा के कनीय अभियंता को 10 हजार रूपये लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है।

ये गिरफ्तारी शहर के पुराना पेंट्रोल पंप के समीप हुई है। सिमरिया के गोवाकला की उर्मिला देवी मनरेगा से कूप का निर्माण करवा रही थी। कूप योजना की प्राक्लित राशि 4 लाख 47 हजार 624 रूपये है। काम के विरूद्ध लाभुक को 1.35 लाख रूपये का भुगतान हो चुका था। शेष राशि के लिए उर्मिला देवी ने कनीय अभियंता से संपर्क किया था। जूनियर इंजीनियर ने इसे लेकर 15 हजार रूपये रिश्वत की मांग की।

उर्मिला देवी ने इसे लेकर हजारीबाग के एसीबी कार्यालय में संपर्क किया और इसकी लिखित शिकायत दर्ज करायी। शिकायत के आधार एसीबी की टीम सिमरिया पहुंची, जांच में मामला सही पाया गया। जिसके बाद प्राथमिकी दर्ज की गयी। एसीबी के कहने पर उर्मिला देवी 10 हजार रूपये रिश्वत लेकर जूनियर इंजीनियर के पास पहुंची, जैसे ही उर्मिला देवी  पैसा दिया।

सादे लिबास में मौजूद एसीबी की टीम ने घेराबंदी कर जूनियर इंजीनियर को गिरफ्तार कर लिया। रिश्वत के साथ रंगे हाथों पकड़ाये जूनियर इंजीनियर को साथ में एसीबी की टीम हजारीबाग लेकर आयी है।  

Leave a comment

Your email address will not be published.