रांची: खराब दिनचर्या, गलत खानपान, अधिक आराम और तनाव की वजह से रक्तचाप की समस्या होती है। इनमें तनाव प्रमुख वजह है। उच्च रक्तचाप से हृदय रोग का खतरा भी बढ़ता है। इसके लिए हेल्थ एक्सपर्ट हमेशा ही हाई बीपी को कंट्रोल करने की सलाह देते हैं। इसके लिए सबसे पहले तनाव पर लगाम लगाना जरूरी है। सरल शब्दों में कहें तो तनाव से परहेज करें। इसके लिए अपने आप को व्यस्त रखें। वही डाइट में पोटैशियम रिच फूड को जरूर शामिल करें। पोटेशियम शरीर में सोडियम को संतुलन करने में सहयोग करता है। इसके अलावा उच्च रक्तचाप को कंट्रोल करने के लिए डैश डाइट को फॉलो कर सकते हैं। इस डाइट को फॉलो करने के लिए उक्त रक्तचाप को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। आइए इसके बारे में जानते हैं।

डैश डाइट क्या है

इस डाइट में साबुत अनाज, मछली, नोन फैट डेरी पोल्ट्री और लीन मीट, फल और सब्जियां खाने की आजादी होती है। वही बहुत कम मात्रा में चीनी और नमक खाने की इजाजत होती है। चीनी और नमक पर पाबंदी की वजह से यह डाइट हाई बीपी के मरीजों के लिए फायदेमंद है। इस डाइट के फॉलो करने से सोडियम और वसा कंट्रोल में रहता है। डेस डाइट के कई फायदे हैं यह ना केवल वजन घटाने में फायदेमंद है बल्कि संपूर्ण शरीर के लिए लाभदायक है। हालांकि डैश डाइट के बारे बहुत कम ही लोगों को ही पता है। अगर आप हाई बीपी के मरीज हैं और उच्च रक्तचाप को कंट्रोल में रखना चाहते हैं तो डैश डाइट को फॉलो कर सकते हैं।

उच्च रक्तचाप में क्या करें

  • नमक का कम सेवन करें।
  • डाइट में चीनी भी कम लें।
  • संतृप्त वसा युक्त चीजों का सेवन कम से कम करें।
  • डेयरी उत्पादों का सेवन सीमित मात्रा में करें।
  • तनाव से परहेज करें।
  • डाइट में पोटैशियम रिच फूड शामिल करें।