रांची: कर्मचारियों के लिए एक बड़ी अपडेट आ रही है। हेमंत सोरेन सरकार ने पुरानी पेंशन बहाल कर दी है। राजनीतिक अस्थितरता के बीच हुई इस बैठक में हेमंत कैबिनेट ने पुरानी पेंशन को बहाल करने का ऐलान कर दिया।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री ने पहले 15 अगस्त को ही पुरानी पेंशन बहाल करने की बात कही थी।
लेकिन, तय वक्त तक एसओपी की बैठक नहीं होने की वजह से 15 अगस्त को पुरानी पेंशन बहाल नहीं हो सकी। अब खबर ये आ रही है कि झारखंड कैबिनेट की बैठक में पुरानी पेंशन योजना को बहाल कर दिया गया है। इससे पहले सरकार ने तीन सदस्यीय SOP का गठन किया था जिसे पुरानी पेंशन पर अपनी रिपोर्ट देनी थी। रिपोर्ट सरकार को मिलने के बाद हेमंत सरकार ने पुरानी पेंशन योजना बहाल कर दी।

गौरतलब है कि राज्य सरकार के वैसे कर्मी जिनकी नियुक्ति प्रक्रिया 1.12. 2004 के पूर्व पूर्ण हो गई थी लेकिन दिनांक 1.12. 2004 के पश्चात नियुक्त हुए उन्हें पुरानी पेंशन योजना का प्रस्ताव राज्य सरकार के समक्ष विचाराधीन था।
राज्य सरकार के निर्णय के बाद 1.12. 2004 के बाद नियुक्त कर्मियों को कुछ शर्तों के अधीन झारखंड पेंशन नियमावली 2000 के अंतर्गत पुरानी पेंशन योजना का लाभ मिलेगा. इसके तहत जिनकी नियुक्ति के लिए अंतिम परिणाम या अनुशंसा 1.12. 2004 के पूर्व घोषित हो चुकी है लेकिन प्रशासनिक कारणों जैसे पुलिस सत्यापन, चिकित्सीय जांच इत्यादि से जो नियुक्त किए गए सरकारी सेवकों के नियंत्रण से अलग हो, नियुक्ति पत्र के जारी होने या योगदान में विलंब हुआ हो. दूसरी शर्त यह है कि ऐसे कर्मियों को अपने नियुक्ति प्राधिकार या विभाग में आवेदन करना होगा तथा नियुक्ति प्राधिकार या विभाग द्वारा समीक्षा के बाद आवश्यक आदेश दिनांक 31.12. 2022 के पूर्व तक निश्चित रूप से निर्गत किया जाएगा. गौरतलब है कि इसके दायरे में राज्य सरकार में करीब पांच सौ कर्मचारी हैं जिनको इसका लाभ मिलेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.