नयी दिल्ली। 15 अगस्त पर देश को दहलाने की साजिश का खुलासा हुआ है। दिल्ली पुलिस ने 2000 से ज्यादा जिंदा कारतूस का जखीरा पड़ा है। इस मामले में अब तक 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। स्वतंत्त्रता दिवस के ठीक पहले हथियारों के जखीरे ने पुलिस को भी परेशान कर दिया है। इस ऑपरेशन में पुलिस ने अब तक 2251 कारतूस बरामद किए है. ये कारतूस हाई कैलिबर के हैं. पुलिस ने इस नेक्सस से जुड़े अब तक कुल 6 लोगो गिरफ्तार भी किया है.

डीसीपी प्रियंका कश्यप के मुताबिक इन हथियारों को किस जगह पर इस्तेमाल हो रहा है, पुलिस इस पर जांच कर रही है। अब तक कि जांच के मुताबिक मेरठ की जेल में बन्द अनिल नाम के एक गैंग्स्टर ने उत्तर प्रदेश के जौनपुर के सद्दाम की बात देहरादून के परीक्षित नेगी से करवाई थी. सद्दाम को हाई कैलिबर कारतूस की जरूरत थी तो देहरादून में गन हाउस के मालिक परीक्षित नेगी धोखे से कारतूस बेचता था. जेल में बन्द अनिल ने दोनो की बात करा दी थी.

आटो ड्राइवर ने दिया था कारतूस का सुराग

आनंद विहार के ऑटो ड्राइवर ने शक के बाद वहां मौजूद सिपाहियों को बताया कि दो लड़के हैं, जिनके पास बेहद भारी बैग है. जिसमें कुछ गलत समान हो सकता है. पुलिस ने उन दोनों लड़कों की जब जांच की तो उनमें से भारी मात्रा में हाई कैलीबर कारतूस मिले. ये बात 6 अगस्त की है. पकड़ में आए दोनों लड़कों के नाम राशिद और अजमल थे. पुलिस (Delhi Police) को बताया कि ये कारतूस वे देहरादून से लेकर आ रहे थे और आगे इन्हें पहले लखनऊ और फिर जौनपुर पहुंचाना था.

Donate to HBPL