पटना। ड्रग इंस्पेक्टर जितेंद्र कुमार के ठिकाने से 4 करोड़ 11 लाख रूपये कैश मिले हैं। हालांकि नोटों के इस जखीरे को खोजने केलिए निगरानी टीम को काफी मशक्कत करनी पड़ी। घरवालों ने काफी भरमाने की कोशिश की। इस कमरे से उस कमरे तक अफसरों को टहलाते रहे, लेकिन तभी घर के एक बच्चे ने खजाने का पूरा राज खोल लिया। निगरानी अन्वेषण की टीम ने जब बच्चे के बताये जगह को देखा तो वहां नोटों की गड्डियां ही गड्डियां बिखरी थी। पुलिस को इतने नोट मिले की गिनते –गिनते आधा दर्जन अफसरों के हाथ दर्द होने से लगे, जिसके बाद बैंक से नोट गिनने की मशीन मंगायी गयी, जिसमें 4 करोड़ 11 लाख रूपये कैश बरामद हुए हैं।

अधिकारियों के मुताबिक टी छापेमारी के लिए टीम ड्रग इंस्पेक्टर के सुल्तानगंज स्थित खान मिर्जा गली स्थित आवास पर पहुंची तो परिजनों ने बरगलाना शुरू कर दिया। मकान काफी बड़ा और उसमें कई कमरे थे। निगरानी की टीम भी यह पता करने में उलझी रही कि इंस्पेक्टर का कमरा कौन सा है। उनके परिजनों ने हर बार गुमराह किया, लेकिन एक 6-7 साल के एक बच्चे ने निगरानी टीम का काम आसान कर दिया।

अफसर ने बहला फुसलाकर बच्चे से बात की और बैंग की बात पूछने लगे तो बच्चे ने पूरे नोट से भरे बैग लाकर दिखा दिये, जिसके बाद निगरानी टीम ने बच्चे से पूछा कि ये बैग कहा ये लाये, तो बच्चे ने पूरी जानकारी दे दी, जिसके बाद टीम ने ने उस जगह पर सर्च किया तो 5 बोरों में रखा 4 करोड़ 11 लाख रुपये मिला। पुलिस ने 50 लाख से 70 लाख तक के जेवर, कारों का जखीरा और करोड़ों की जमीन जायदाद की कागजात जब्त की है।

Leave a comment

Your email address will not be published.