मोतिहारी। मैं विद्यालय जाता हूं….मास्टर साहब इसका इंग्लिश में ट्रांसलेशन नहीं बता सके। बिहार में शिक्षा व्यवस्था का मजाक उड़ाता VIDEO सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। नया मामला मोतिहारी का है। बिहार में शिक्षा व्यवस्था की पोल तब खुली, जब पकड़ीदयाल अनुमंडल पदाधिकारी कुमार रविंद्र स्कूल के इंस्पेक्शन पर पहुंचे। उन्होंने क्लास में पढ़ाई के दौरान हेडमास्टर से पूछा कि वो क्या पढ़ाते हैं।

हेडमास्टर ने बताया कि वो स्कूल में बच्चों को इंग्लिश और संस्कृत पढ़ाते हैं। सुनते ही SDO कुमार रविंद्र ने उनसे कहा कि “मैं विद्यालय जाता हूं” का इंग्लिश में ट्रांसलेट कीजिये, हेडमास्टर जब इंग्लिश में जवाब नहीं बता सके, तो SDO ने उसे संस्कृत में ट्रांसलेट करने को कहा, लेकिन वो भी मास्टर साहब नहीं कर सके। बाद में खुद ही SDO ने हेडमास्टर को सही जवाब बताया।

वहीं स्कूल में बच्चों को शिक्षक मुकूल कुमार ने पर्यावरण की गलत जानकारी पढ़ाई के दौरान दे रहे थे। जिसके बाद एसडीओ ने सहायक शिक्षक से जलवायु और मौसम में अंतर पूछ लिया। सहायक शिक्षक भी इसका जवाब नहीं दे पाये। शिक्षक को जवाब नहीं देते देख एसडीओ ने सभी बच्चों को खुद ही पढ़ाया, उन्होंने ब्लैक बोर्ड में जानकारी लिखकर पर्यावारण का चैप्टर बच्चों को पढ़ाया।  

Leave a comment

Your email address will not be published.