नयी दिल्ली । देश का बजट 1 फरवरी को पेश होगा। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू हो सकता है। बजट सत्र 6 अप्रैल को खत्म होगा। सत्र की शुरुआत लोकसभा और राज्यसभा के संयुक्त सत्र से होगी। इस दौरान राष्ट्रपति द्रौपदी मूर्मू दोनों सदनों को संबोधित होगी। यह उनका संसद के दोनों सदनों को पहला संबोधन होगा।

जानकारी के मुताबिक, बजट सत्र के पहले दिन दोनों सदनों में इकोनॉमिक सर्वे को पेश किया जाएगा। इसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद में केंद्रीय बजट पेश करेंगी।

बजट एक फरवरी को पेश किया जा सकता है। सत्र का पहला भाग 10 फरवरी तक जारी रह सकता है। इसके बाद बजट सत्र का दूसरा भाग छह मार्च को शुरू होगा और यह 6 अप्रैल तक चल सकता है।सत्र की शुरुआत लोकसभा और राज्यसभा के संयुक्त सत्र को राष्ट्रपति द्रौपदी मूर्मू के संबोधन से होगी. यह राष्ट्रपति मूर्मू का पिछले साल अगस्त में शीर्ष पद पर पहुंचने के बाद संसद के दोनों सदनों को पहला संबोधन होगा। रिपोर्ट के मुताबिक, बजट सत्र के पहले दिन दोनों सदनों में इकोनॉमिक सर्वे रखा जाएगा।

सत्र का पहला भाग 10 फरवरी तक जारी रहने की उम्मीद है। इस बीच एक ब्रेक भी होगा, जिस दौरान स्टैंडिंग कमेटियां अलग-अलग मंत्रालयों के डिमांड ऑफ ग्रांट का निरीक्षण करेगी। बजट सत्र का दूसरा भाग 6 मार्च को शुरू होगा और इसके 6 अप्रैल को खत्म होने की उम्मीद है। आपको बता दें कि सरकार बजट 2023 में नए क्षेत्रों के लिए प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव यानी PLI स्कीम का ऐलान कर सकती है।

इसके अलावा एक जिला एक प्रोडक्ट स्कीम को बढ़ावा देने के लिए नए ऐलान हो सकते हैं। इसका मकसद भारत में एक्सपोर्ट हब बनाना और इससे नई नौकरियां पैदा करना होगा। इसके अलावा सरकार बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार और न्यायिक सुधारों का भी ऐलान कर सकती है। सरकार ने साल 2025 तक स्वास्थ्य पर जीडीपी का 2.5 फीसदी खर्च करना भी लक्ष्य रखा है।