HPBL न्यूज की अपील- शांति बनाये रखें, अफवाहों पर ना दें ध्यान

रांची। नुपूर शर्मा के बयान पर देश भर में मचे बवाल के बीच सबसे ज्यादा हिंसा की खबर झारखंड में आयी। रांची में संप्रदाय विशेष के उपद्रव में दो लोगों की मौत की खबर है। हालांकि प्रशासन की तरफ से इसकी पुष्टि नहीं हुई है। फायरिंग में 35 साल के एक व्यक्ति की मौत हो गयी। देर रात एक और शख्स की मौत की जानकारी मिली है। हालांकि प्रशासन मौत के आंकड़ों को लेकर कुछ नहीं बोल रहा है। वहीं 7 लोगों को गोली लगने की खबर है, जबकि 12 से ज्यादा लोग घायल हैं। इधर घटना को लेकर गर्वनर रमेश बैस ने मुख्यमंत्री और डीजीपी से बात की है और सख्त कदम उठाने को कहा है। सूचना ये भी आयी है कि प्रदर्शनकारियों की तरफ से भी गोलियां चली है। हालांकि इस मामले में विस्तृत जांच चल रही है।

घटना में रांची के एसएसपी, डेली मार्केट व कोतवाली के थानेदार को चोटें आयी है। इस घटना के बाद जिला प्रशासन ने रांची में लाला लाजपत राय चौक (सुजाता चौक) से अलबर्ट एक्का चौक तक महाच्मा गांधी मेन रोड के दोनों तरफ 500-500 मीटर तक धारा 144 लगा दी गयी है। इस घटना को लेकर पुलिस निष्क्रियता पर भी सवाल उठ रहे हैं। जिस तरह से बंद का ऐलान पहले से किया जा रहा था, उससे एक बात तो साफ था कि सप्रंदाय विशेष कुछ अलग प्लानिंग कर रहा है, बावजूद प्रशासन की तरफ से कोई पुख्ता व्यवस्था नही की गयी थी।

जानकारी ये भी है बिहार सरकार के मंत्री नितिन नवीन की गाड़ी भी उपद्रवियों ने तोड़ दी । इस बीच जानकारी ये भी आयी है कि सुबह से ही हिंसा की कहीं ना कहीं आशंका थी, प्रबुद्ध वर्ग लगातार इस बात के लिए अपील कर रहा था कि वे शांति भंग नहीं होने दें, लेकिन अपील का कहीं भी असर नहीं हुआ। सप्रंदाय विशेष नुपूर शर्मा के बयान का विरोध कर ही थी।

विरोध में सुबह से डेली मार्केट की 3 हजार से ज्यादा दुकानें बद थी। जुमे की नमाज के बाद बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी सड़क पर उतर आये। पुलिस ने उन्हें रोका तो वो उग्र हो गये। पुलिस उनकी भिड़ंत हो गयी। उर्दू लाइब्रेरी के पास प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी। पुलिस को भीड़ संभालने के लिए हवाई फायरिंग करनी पड़ गयी। इस दौरान दूसरे पक्ष ने पत्थरबाजी शुरू हो गयी, जिसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गये।

Leave a comment

Your email address will not be published.