डिप्टी SP को बनाया सिपाही: प्रेमिका के साथ रंगरेलियां मनाने के चक्कर में हुआ डिमोशन,

पुलिस विभाग न्यूज। वैसे तो विभागो में प्रमोशन की खबरे आम है परंतु किसी अधिकारी को सीधे सिपाही बना दिया जाय तो चर्चा खास हो जाती है।पुलिस विभाग ने डिप्टी एसपी को विभाग कि छवि खराब करने के एवज इस तरह के आदेश जारी किया है। मामले में डिप्टी एसपी रहे कृपा शंकर कनौजिया को एक गलती भारी पड़ गई और वो अब अधिकारी से सीधे सिपाही बना दिए गए हैं।प्रदेश के उन्नाव में एक पुलिस अधिकारी का डिमोशन हो गया और वो डिप्टी एसपी से सीधे कांस्टेबल बन गए हैं.

दरअसल उन्नाव के तत्कालीन सीओ कृपा शंकर कनौजिया को उनकी हरकतों की वजह से और पुलिस की छवि धूमिल करने के आरोप में डिमोशन कर अधिकारी से सिपाही बना दिया गया। किसी निजी काम के लिए छुट्टी लेने के बाद कृपा शंकर अपने घर नहीं पहुंचे थे और पत्नी के लापता होने की शिकायत पर पुलिस ने उन्हें कानपुर के एक होटल में महिला सिपाही के साथ रंगे हाथों पकड़ लिया था. इसके बाद उनका डिमोशन कर दिया गया.मामला पत्नी और प्रेमिका के बीच सीधे तौर पर जुड़ा है।

उत्तर प्रदेश पुलिस में एक डिप्टी एसपी को दोबारा कांस्टेबल बना दिया गया है। डिप्टी एसपी का डिमोशन कर दिया गया है। कृपा शंकर पहले उन्नाव के बीघापुर के सीओ थे। डिमोशन करते हुए उन्हें 6वीं वाहिनी पीएसी गोरखपुर में F दल में आरक्षी पद पर तैनात किया गया है। सिपाही से ही प्रमोशन पाकर उन्होंने सीओ तक का सफर तय किया था।

जांच पर हुई कारवाई

इस कांड के बाद विभाग की छवि धूमिल करने के चलते रिपोर्ट प्रशासन को भेजी गई थी। शासन ने पूरे मामले की सही से जांच करने के बाद कृपा शंकर कनौजिया को डिमोट कर कांस्टेबल बना दिया। इसके बाद एडीजी प्रशासन ने इसका आदेश भी जारी कर दिया। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, कृपाशंकर गोंडा से तबादले में उन्नाव भेजे गए थे।

मामला आज से करीब तीन साल पहले का है। 6 जुलाई, 2021 को कृपा शंकर ने उन्नाव के एसपी से पारिवारिक कारणों की वजह से छुट्टी मांगी थी, लेकिन वह घर जाने की जगह कहीं और ही चले गए। इसके बाद सीओ ने अपना सरकारी और प्राइवेट नंबर दोनों ही बंद कर दिए। जब सीओ का फोन बंद आया तो उनकी पत्नी काफी परेशान हो गईं और फिर जब उन्होंने किसी और से संपर्क किया तो पता चला कि कृपा शंकर छुट्टी लेकर निकले हुए हैं। पत्नी ने अनहोनी होने की आशंका जताते हुए शिकायत दर्ज की।

अनहोनी की आशंका में एसपी उन्नाव ने जांच शुरू की, CO का मोबाइल नेटवर्क कानपुर में एक होटल में मिला, पुलिस होटल पहुंची, जहां CO की लोकेशन पता चली थी, कानपुर के होटल में सीओ, महिला सिपाही साथ में मिलीं, सीओ और उनकी महिला मित्र सीसीटीवी में कैद हुए थे, होटल में एंट्री करते समय सीसीटीवी कैमरे में कैद हुए थे.

कानपुर के एक होटल में महिला के साथ पकड़े गए

किसी तरह की कोई अनहोनी ना हो गई हो इसके लिए एक सर्विलांस की टीम ने उनकी लोकेशन ट्रेस की। जांच करने के बाद कृपा शंकर के मोबाइल की लोकेशन कानपुर के एक होटल की निकली। जहां पर फोन आखिरी बार ऑन था और उसके बाद से ही स्विच ऑफ आ रहा था। जब पुलिस उस होटल में पहुंची तो होटल के कमरे में वह एक महिला के साथ में मिला। सबूत के तौर पर उन्नाव पुलिस ने एक वीडियो बनाकर ले आई।

एडीजी ने किया डिमोशन

मामला सामने आने के बाद राज्य सरकार (शासन) ने पूरे मामले पर समीक्षा के बाद कृपा शंकर कनौजिया को रिवर्ट कर फिर से सिपाही बनाने की सिफारिश की जिसके बाद एडीजी प्रशासन ने CO को सिपाही बनाने का आदेश जारी कर दिया. उन्नाव में बीघापुर के सीओ रहे कृपाशंकर कनौजिया को अब सिपाही बना दिया गया है और उनकी नई तैनाती 26वीं पीएसी वाहिनी गोरखपुर में की गई है.

HPBL
HPBL  

Related Articles

Next Story