धनबाद जिले के सबसे बड़े अस्पताल SNMMCH से आ रही है, गर्भवती महिलाओं की संस्थागत प्रसव कराने में सबसे ज्यादा जवाबदेही वर्तमान समय में सहिया उठा रही है। सरकार सहिया पर विशेष ध्यान दे रही है, हर तरह से उन्हें प्रशिक्षित किया जा रहा है। गर्भवती महिलाओं की देखभाल, नियमित रूप से उसकी जांच पड़ताल, प्रतिरक्षण से संबंधित कार्य के अलावा हर तरह के स्वास्थ्य से संबंधित कार्य का जिम्मा सहिया उठाती है। इसके बावजूद सबसे बड़े अस्पताल SNMMCH में डॉक्टर द्वारा सहिया से अभद्र व्यवहार और धक्का-मुक्की करना बेहद शर्मनाक घटना है।

मंगलवार को एक गर्भवती महिला के प्रसव के लिए SNMMCH पहुंची एक सहिया के साथ डॉक्टर ने ना सिर्फ उसके साथ दुर्व्यवहार किया, बल्कि गार्ड के द्वारा उसे धक्का-मुक्की कर गेट से बाहर निकाल दिया गया। सहिया द्वारा घटना का वीडियो बनाने पर गार्ड ने मोबाइल छीन कर पूरी वीडियो डिलीट कर दी । बुधवार को इस घटना से नाराज जिले की सहियायों ने सिविल सर्जन कार्यालय का घेराव कर जमकर हंगामा किया। साहियायों ने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। इधर सिविल सर्जन अपने ऑफिस से निकलकर सहियायो के बीच जाकर उनकी शिकायत को बड़े ध्यान से सुना और उन्हें शांत कराया। इसके बावजूद सहिया दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे थे। सिविल सर्जन द्वारा काफी मशक्कत के बाद सहिया को शांत कराया गया। सिविल सर्जन श्याम किशोर कांत ने मामले में दोषियों के ऊपर कार्रवाई का भरोसा सहिया को दिया है।

क्या है मामला ,क्यों सहिया ने किया घेराव

करमाटांड़ की पीड़ित सहिया उर्मिला देवी ने मीडिया को बताया कि वह मंगलवार को एक गर्भवती महिला के प्रसव के लिए SNMMCH में भर्ती कराई थी । मरीज की भर्ती के साथ ब्लड जांच के लिए कहा गया। ब्लड जांच रिपोर्ट लेकर वापस अस्पताल में लौटी सहिया रिपोर्ट डॉक्टर दिखाने के लिए पहुंची। डॉक्टर ने रिपोर्ट नहीं ली, बल्कि रिपोर्ट फेंक दी। डॉक्टर ने सहिया को बाहर निकालने के आदेश गार्ड को दिए। गेट पर तैनात गार्ड ने धक्का-मुक्की कर अस्पताल से सहिया को बाहर कर दिया। घटना का वीडियो अपने मोबाइल में रिकॉर्ड कर रही सहिया का मोबाइल गार्ड छीन कर घटना के सभी वीडियो को डिलीट कर दिया।

सिविल सर्जन ने मामले की जांच का दिया आश्वाशन

वहीं सिविल सर्जन श्री कांत ने कहा है सहिया के साथ इस तरह का व्यवहार बिल्कुल अनुचित है। घटना के संबंध में बताया की एस एन एम एम सी एच के डॉ मधुलिका के द्वारा यह अभद्र व्यवहार किया गया है। मामले की लेकर मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक से बात की जा रही है,जरूरत पड़ी तो मामले में प्राथमिकी भी दर्ज कराया जाएगा। सहिया के शिकायत पर उनके साथ अन्याय होने नही होने दिया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.