अपने गानों के जरिए उत्तर प्रदेश व बिहार विधानसभा के चुनाव में शासन प्रशासन पर सवाल उठाने वाली लोक गायिका नेहा राठौर गत मंगलवार को सात फेरों के बंधन में बंध गईं। यूपी के अंबेडकरनगर जिले के भीटी तहसील क्षेत्र निवासी हिमांशू सिंह के साथ उन्होंने लखनऊ में अपनी शादी की रस्मों को पूरा किया। शादी काफी सादगी के साथ संपन्न हुई। इसके साथ ही लोक गायिका नेहा अब यूपी की बहू बन गई हैं।

चुनाव के समय ही यह खबर सामने आयी थी कि नेहा जल्द ही अंबेडकरनगर जिले की बहू बन सकती हैं। अन्य रस्में तो पहले ही संपन्न करा ली गई थीं, लेकिन अब एक दिन पहले मंगलवार को उन्होंने जिले के भीटी तहसील क्षेत्र निवासी हिमांशू सिंह के साथ लखनऊ में सात फेरे लिए। हिमांशू स्वतंत्र लेखक व दृष्टि कोचिंग पत्रिका के उपसंपादक हैं। हिमांशू के पिता ने अकबरपुर में घर बनवा रखा है।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक नेहा सिंह राठौर और हिमांशु पहले से एक दूसरे के संपर्क में थे. दोनों के परिवारों की सहमति के बाद शादी की रस्मों को साकार किया गया. लखनऊ के नीलांश थीम पार्क में शादी समारोह का आयोजन बेहद सादे तरीके से किया गया और इसमें किसी वीवीआईपी गेस्ट, नेता या अन्य किसी हस्ती को न्यौता नहीं दिया गया. शादी के दौरान नेहा खूबसूरत साड़ी में नजर आ रही हैं।

भोजपुरी पर है गहरी पकड़

नेहा सिंह राठौर का जन्म साल 1997 में बिहार में हुआ था. वह कैमूर जिले के जलदहां गांव की रहने वाली हैं. वह बिहार के साथ ‘यूपी में लोकगायिका के रूप में मशहूर हैं. भोजपुरी और अवधी में उनके गानों को खूब पसंद किया जाता है. वह कोरोना जागरुकता पर भी गाना गा चुकी हैं।

कानपुर से पढ़ाई की हैं नेहा

नेहा ने कानपुर से अपनी शिक्षा हासिल की है। पढ़ाई के दौरान ही उन्होंने कई भोजपुरी गाने गाए। नेहा वैसे तो काफी दिनों से सोशल मीडिया पर छाई थीं, लेकिन यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान ‘यूपी में का बा’ गाने ने उनको लोकप्रियता की बुलंदियों पर पहुंचा दिया। इस गाने को लेकर काफी हंगामा भी हुआ और इसके विरोध में कई गाने भी सामने आए।

यूपी में तोहार ससुराल बा’,

नेहा के गाने पर अब यूजर कर रहे कमेंट ,नेहा सिंह ने इलाहाबाद में रह कर पढ़ाई करने वाले छात्रों को लेकर भी एक गाना गाया जो खूब लोकप्रिय हुआ। नेहा सिंह राठौर ने जिस गाने ‘यूपी में का बा’ को गाकर विधानसभा चुनाव में धमाल मचाया था, अब लोग उसी पर कमेंट कर रहे हैं और कह रहे हैं कि ‘यूपी में तोहार ससुराल बा।’

पिछले साल ही होनी थी शादी

दोनों की शादी पिछले साल ही होनी थी लेकिन कोविड नामक दानव ने हिमांशु की मां को अपनी गिरफ्त में ले लिया था, जिसकी वजह से उनका निधन हो गया था और इसीकारण से नेहा और हिमांशु की शादी टल गई थी और अब पूरे एक साल बाद दोनों वैवाहिक बंधन में बंधे हैं।

हिमांशु पेशे से राईटर हैं

आपको बता दें कि हिमांशु सिंह अंबेडकर नगर के हीड़ी पकड़िया के निवासी हैं। इनके पिता का नाम सूर्यकांत सिंह है, जो कि प्रयागराज में टाटा कैमिकल फर्टिलाइज में सेल्स ऑफिसर थे और अब पेंट का बिजनेस करते हैं। हिमांशु पेशे से राईटर हैं वैसे उन्होंने स्नातक प्रयागराज से किया है और आगे की पढ़ाई दिल्ली से की है। वो पढ़ने में काफी मेधावी रहे हैं और वो दिल्ली के कई कोचिंग सेंटर्स में पढ़ाने का भी काम करते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.