भारतीय महिला क्रिकेट की महानतम खिलाड़ी मिताली राज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। मिताली ने 23 साल के करियर में कई उपलब्धियां हासिल की। वो वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली महिला क्रिकेटर हैं। वहीं, महिला वनडे वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा मैचों में कप्तानी का रिकॉर्ड भी उनके नाम दर्ज है।

मिताली ने 1999 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था। उन्होंने पहला मैच आयरलैंड के खिलाफ खेला था। वहीं, मिताली का आखिरी मुकाबला दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में इसी साल था।।

उन्होंने ट्वीट कर यह जानकारी दी। मिताली ने सभी को उनके प्यार और समर्थन के लिए धन्यवाद दिया है। उन्होंने लिखा कि वे अपनी दूसरी इनिंग्स पर ध्यान देंगी। हालांकि, उन्होंने यह जाहिर नहीं किया है कि यह दूसरी पारी क्या होगा।

रिटायरमेंट लेते हुए इमोशनल हुईं मिताली राज39 साल की मिताली राज ने 8 जून को ट्विटर पर एक लंबा संदेश जारी कर संन्यास का ऐलान किया. मिताली ने अपने मैसेज में लिखा कि मैं एक छोटी बच्ची थी जब मैंने ब्लू जर्सी पहनकर अपने देश का प्रतिनिधित्व किया था. ये सफर काफी लंबा रहा जिसमें हर तरह के पल देखने को मिले, पिछले 23 साल मेरे जीवन के सबसे बेहतरीन पलों में से एक थे. हर सफर की तरह ये सफर भी खत्म हो रहा है और आज मैं इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास लेने का ऐलान करती हूं

भावुक शब्दों में अपने पत्र के आखिरी कुछ पंक्तियों में मिताली ने लिखा,

“यह यात्रा भले ही समाप्त हो गई हो, लेकिन एक और संकेत मिलता है, क्योंकि मुझे उस खेल में शामिल रहना अच्छा लगेगा जो मुझे पसंद है और भारत और दुनिया भर में महिला क्रिकेट के विकास में योगदान देता है। मेरे सभी प्रशंसकों के लिए विशेष उल्लेख, आप सभी के प्यार और समर्थन के लिए धन्यवाद।” इस तरह मिताली राज ने स्पष्ट कर दिया है कि वे क्रिकेट से जुड़ी रहेंगी, चाहे वह कोचिंग में अगली पारी हो या फिर कमेंटेटर या अन्य किसी तरह से क्रिकेट से जुड़ना हो।

Leave a comment

Your email address will not be published.