पटना। प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम में 1700 लोगों का आमंत्रण भेजा गया था। लेकिन इन आमंत्रण में एक आमंत्रण मृत विधायक के नाम पर भी भेज दिया गया। कई साल पहले दिवंगत हुए विधायक के नाम पर आमंत्रण पत्र देखकर घरवाले भी चौक गये। अब मोदी के बिहार विधानसभा के कार्यक्रम का आमंत्रण पत्र सोशल मीडिया में वायरल है। इस आमंत्रण पत्र को लेकर लोग खूब अधिकारियों की खिंचाई भी कर रहे हैं। लोग अधिकारियों की अंधेरगर्दी को लेकर सवाल उठा रहे हैं।

विधानसभा परिसर के शताब्दी वर्ष पर हुए कार्यक्रम में विधानसभा ने विधायकों, पूर्व विधायकों और एमएलसी को आमंत्रण दिया था। खबर है कि मेहमानों की लिस्ट को एसपीजी ने भी एप्रुप कर दिया था। प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम में पूर्व विधायक अब्दुल पयामी को निमंत्रण भेजा गया था। जबकि अब्दुल पयामी का इंतकाल चार साल पहले ही हो गया था। इधर परिजनों को जब अब्दुल पयामी का निमंत्रण पत्र मिला, तो वो दंग रह गये। वहीं इस मामले को लेकर कांग्रेस ने अधिकारियों की कार्यशैली पर हैरानी जतायी है। कांग्रेस का कहना है कि विधानसभ सचिवालय को इतनी भी जानकारी नहीं है कि जिनका निधन चार साल पहले हो गया है, उन्हें भी निमंत्रण पत्र भेजा जा रहा है।

अब्दुल पयामी 1980 के दशक में मधुबनी के लौकहा विधानसभा से विधायक थे। चार साल पहले उनका निधन हो गया था। कांग्रेस ने कहा कि किसी मृत विधायक के नाम पर निमंत्रण भेज देना तो घोर आश्चर्यजनक है। अधिकारियों को इस बात की खबर होनी चाहिये कि वो अब हमारे बीच नहीं है।

Leave a comment

Your email address will not be published.