incom Tax Return: आयकर रिटर्न फाइल करने को लेकर बहुत सारे लोगों को यह कन्फ्यूजन रहता है कि उन्हें आईटीआर भरना जरूरी हैं भी या नही। आपको बता दें कि यह उन लोगों के लिए भी जरूरी है, जिनकी सालाना आय 2.50 लाख रुपए से कम हो। दरअसल, आईटीआर भरने से कम आय वाले लोगों ऑटोमोटेटेड इनकम टैक्स नोटिस से बच सकेंगे।

आईटीआर फाइल करना क्यों है जरूरी

एसेसमेंट ईयर 2022- 23 या वित्तीय वर्ष 2021- 22 के लिए आयकर रिटर्न (ITR) दाखिल करने की तय तारीख 31जुलाई 2022 हैं। ऐसे में इनकम ग्रुप में आने वाले व्यक्ति को अपना आइटीआर समय सीमा से पहले फाइल करने की सलाह दी जाती है । अगर आपकी ग्रॉस कुल कमाई 2.5 लाख रूपये से अधिक है तो आपको आईटीआर फाइल करना जरूरी है । यह सीमा वरिष्ठ नागरिकों के लिए 3 लाख और 80 साल से अधिक लोगों के लिए ₹ 5 लाख रुपए है ।यानी अगर आप की कुल कमाई 2.5 लाख रुपए से कम है ,तो आपको आइटीआर भरने की जरूरत नहीं है कि अगर आप कम सैलरी के बावजूद आईटीआर भरते हैं तो इससे आपको कई फायदे होते हैं।

जाने क्या कहते हैं एक्सपोर्ट।

एक्सपर्ट की मानें तो अगर कोई व्यक्ति आइटीआर फाइल नहीं करता है तो वह टीडीएस कटौती पर आइटीआर रिफंड का क्लेम नहीं कर सकता है ।ऐसे में जिनका टीडीएस डिडक्शन होता है उनके लिए आयकर रिटर्न फाइल करना जरूरी हो जाता है ।चाहे उनकी सालाना इनकम आयकर सीमा से कम यानी 2.5 लाख रुपए प्रति वर्ष ही क्यों ना हो। सालाना आय सीमा से कम होने पर भी आईटीआर दाखिल करने को लेकर डेलॉयट इंडिया की पार्टनर आरती रावत ने कहा है कि , आम जनता को यह सलाह दी जाती है कि कम इन कम इनकम होने पर भी शून्य आयकर रिटर्न दाखिल करें । भविष्य में कभी आपको वीजा,पासपोर्ट के लिए आवेदन करना होगा तब आपको इसका डिटेल काम आ सकता है। यदि आप किसी लोन के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो बैंक में लोन देने वाले संस्थान पहले आईटी रिटर्न मांगता है ऐसे में अगर आप आईटी रिटर्न जमा करते हैं तो आपका लोन जल्दी अप्रूव हो जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.