रांची। मनी लांड्रिंग केस में निलंबित आईएएस पूजा सिंघल की मुश्किलें खत्म नहीं हो रही है। पूजा सिंघल के मनी लांड्रिंग केस में चतरा, चाईबासा, खूंटी और सरायकेला में डीएमओ से ईडी की पूछताछ चल रही है। आरोप है कि आईएएस पूजा सिंघल केस में इन जिलों से भी गहरे तार जुड़े हैं। दरअसल आईएएस पूजा के साथ पूछताछ के दौरान ईडी को कुछ दस्तावेज मिले थे। उस दस्तावेज के आधार पर ही ईडी की टीम अपनी जांच आगे बढ़ा रही है। पिछले दिनों एक दौर की बातचीत इन सभी अधिकारियों के साथ हो चुकी है। इसके बाद दोबारा से सभी से पूछताछ की जा रही है। जानकारी ये आयी है कि ईडी को दिये पूर्व बयान और आज के बयान का मिलान किया जायेगा और फिर ईडी किसी निष्कर्ष में पहुंचेगी।

ईडी की तरफ से अधिकारियों के विभाग की तरफ से अवैध उत्खनन के खिलाफ की गयी कार्रवाई, तैनाती, अमला और विभाग की कार्यप्रणाली को लेकर जानकारी मांगी गयी थी। अधिकारियों ने पूछा कि क्या अवैध उत्खनन के मामले में रिश्वत लिये गये और अवैध खनन और अवैध परिवहन को लेकर जो पैसा आया, वो किन किन लोगों को पहुंचाया गया।

हालांकि सूत्र ये भी बता रहे है कि पिछले दिनों जब दस्तावेजों में लिखे कुछ आंकड़ों और नाम के बारे में अधिकारियों से पूछताछ की गयी, तो उन्होंने इस बात का कुछ भी जवाब नहीं दिया। चर्चा है कि इस संदर्भ में आज की सुनवाई के दौरान ईडी के अफसरों का रूख कड़ा हो सकता है। दरअसल ईडी को शक है कि माइनिंग अवैध उत्खनन सहित अवैध परिवहन में कई राजनीतिक और सफेदपोश लोग संलिप्त है। ईडी अधिकारियों से चर्चा कर उन्ही सूत्र को तलाशने की कोशिश कर रही।

Leave a comment

Your email address will not be published.