रांची। झारखंड से एक बड़ी खबर आ रही है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के करीबी और विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा के ठिकानों पर ED की ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू हो गया है। टेंडर घोटाले में पंकज मिश्रा के 17 ठिकानों पर एक साथ कार्रवाई चल रही है। जानकारी के मुताबिक साहेबगंज, बरहेट, धनबाद, राजमहल सहित कई जगहों पर दर्जनों ईडी की टीम पहुंची हुई है। बताया जा रहा है कि ईडी की टीम पौने सात बजे साहिबगंज पहुंची। इसके बाद से छापामारी जारी है। करीब एक दर्जन टीम छापामारी में लगी है। रांची के मोरहाबादी में भी ईडी रेड कर रही है।

हालांकि कई ठिकानों पर सुबह 5 बजे ही ईडी की टीम पहुंच गयी थी। फिलहाल पूरे इलाके को सील कर दिया गया है। साथ ही सभी जगह सीआरपीएफ तैनात है।धनबाद जिले में शुक्रवार सुबह से ED की टीम पंकज मिश्रा के स्थानीय आवास पर छापेमारी कर रही है।

जानकारी के मुताबिक जिन जगहों पर छापेमारी हो रही है, वो सभी सीएम हेमंत सोरेन के प्रतिनिधि पंकज मिश्रा के करीबी बताये जा रहे हैं। दरअसल साहेबगंज के बरहरवा में जून 2020 के टेंडर विवाद में एक केस दर्ज किया गया था। इस केस को ईडी ने टेकओवर किया था। बरहरवा केस शंभू नंदर ने दर्ज कराया था। पूछताछ में शंभू ने ईडी को बताया था कि मंत्री आलमगीर आलम के भाई की कंपनी नगर पंचायत बरहरवा में वाहन प्रवेश शुल्क वसूली के टेंडर में शामिल थी।

उस कंपनी ने एक डमी कंपनी के जरिये 5 करोड़ की बोली लगायी थी। बाद में पैसा जमा नहीं कराने पर दूसरी बोली 1.46 करोड़ में लगाकर आलमगीर आलम की कंपनी ने ठेका ले लिया। शंभू को इसकी जानकारी हुई, तो उसने इस ठेके को 1.80 करोड़ में लिये लिया। उन्होंने बरहरवा में मंत्री आलमगीर आलम व सीएम के विधायक प्रतिनिध पंकज मिश्रा के इशारे पर मारपीट की शिकायत दर्ज करायी। इस मामले में दोनों ही आरोपी को साहेबगंज पुलिस ने क्लीन चिट दे दी।

मामले को ईडी ने टेकओवर किया तो झारखंड में पंकज मिश्रा से मीडिया ने बात की। इस दौरान पंकज मिश्रा ने कहा कि वो ईडी से डरते नहीं है। वो तैयार बैठे हैं, कि जब ईडी उनसे पूछताछ करे। मैंने कोई गलत काम नहीं किया।

Leave a comment

Your email address will not be published.