रांची राज्य सरकार स्कूली बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति काफी गंभीर है। गुरुवार को नामकुम आर सी एच सभागार में एक उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें राज्य के 12 जिलों के (बोकारो, चतरा, देवघर, धनबाद, पूर्वी सिंहभूम, गढ़वा, गिरिडीह, गोड्डा, खूंटी, कोडरमा, लातेहार, और जामताड़ा ) शिक्षा विभाग के डीईओ, डीएसई , ए डी पी ओ, आरईओ के अलावा स्वास्थ्य विभाग की ओर से डीआरसीएचओ व डीपीएम के साथ राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के स्टेट नोडल ऑफिसर डॉ अनिल कुमार ने कार्ययोजना एवं कार्यक्रम के क्रियान्वयन पर एक बैठक बुलाई थी।

इस बैठक का आयोजन राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत बच्चों को पोषण,यौन एवम प्रजनन स्वास्थ्य,मानसिक स्वास्थ्य, हिंसा की रोकथाम (घरेलू हिंसा सहित),नशा निषेध व गैर संचारी रोगों से बचाव आदि की जानकारी देने के लिए राज्य के स्कूलों में अब हर मंगलवार को हेल्थ एंड वैलनेस डे का आयोजन किया जाएगा।

राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के स्टेट नोडल ऑफिसर डॉक्टर अनिल कुमार ने कहा है कि कार्यक्रम के बेहतर संचालन एवं समन्वय हेतु जिला स्तरीय समन्वय समिति एवं प्रखंड स्तरीय समन्वय समिति का गठन कर अगस्त माह में सभी जिलों में कम से कम एक बैठक किए जाएं। विद्यालय समय सारणी में प्रस्तावित घंटी के अनुसार इस शैक्षणिक वर्ष में छात्रों के बीच प्रशिक्षित हेल्थ एंड वैलनेस एंबेसडर्स द्वारा सत्रों का आयोजन किया जाए । कार्यक्रम का अनुश्रवण शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग,सेंटर फॉर कैटलाइजिंग चेंज,झपाईगो एवं संपूर्ण टीम के प्रतिनिधि संयुक्त रूप से करेंगे। इसका मुख्य दोष स्कूली बच्चों को स्वास्थ्य एवं स्वास्थ्य संबंधित विभिन्न प्रकार की जानकारी से जागरूक कराना है।

Leave a comment

Your email address will not be published.