आरा। बिहार ऐसे ही पढ़ाई के मामले में बदनाम थोड़े ना है। नकल मुक्त परीक्षा के भले लाख दावे हों, लेकिन परीक्षा सेंटर तक पहुंचते-पहुंचते उन दावों का दीवाला निकल जाता है। बिहार में  बीएड एग्जाम के दौरान ऐसी ही परीक्षा की पोल खुल गयी। कोई किताब…तो कोई नोटबुक और तो और जिसे नोटबुक और किताब नहीं मिला वो मोबाइल से ही धड़ाधड़ नकल उतारने में भिड़ा था। परीक्षा केंद्र में नकलचियों का राम राज देखकर इंस्पेक्शन के लिए पहुंचे डीएम के भी होश उड़ गये।

 डीएम ने तत्काल परीक्षा केंद्रों पर हो रहे कदाचार में पाये गये 80 छात्रों को निष्कासित किया. इस दौरान कदाचार में प्रयोग किये जा रहे लगभग 80 छात्रों के मोबाइल फोन को भी जब्त किया गया. इसके अलावे कदाचार में प्रयोग की जा रही अन्य सामग्रियों को भी जब्त किया गया.

मामला आरा के हरप्रसाद दास जैन कालेज का है, जहां बीएड का एग्जाम सेंटर पड़ा था। फाइनल ईयर की परीक्षा के दौरान औचक निरीक्षण पर पहुंचे भोजपुर के डीएम राजकुमार का भी सर नकल का ऐसा आलम देकर चकरा गया। जांच के दौरान 80 परीक्षार्थियों के पास से मोबाइल मिला। सभी परीक्षार्थी अपने बैग में किताब, गेस पेपर और नोटबुक भर भरकर लाये थे। नकल के इस आलम को देखकर परीक्षा को रद्द करने की अनुशंसा की जा रही है।

आरा के हर प्रसाद दास जैन कॉलज में आर्यभट्ट नॉलेज यूनिवर्सिटी पटना (Aryabhatta Knowledge University Patna) की ओर से बीएड फाइनल इयर का परीक्षा का केंद्र बनाया गया है, जंहा बीते 8 जुलाई से परीक्षा चल रहा था. शुक्रवार को बीएड का पांचवे पेपर की परीक्षा चल रही थी, तभी भोजपुर डीएम राज कुमार ने बड़ी संख्या में मजिस्ट्रेट के साथ जैन कॉलज परीक्षा केंद्र पर धावा बोल दिया. 

Leave a comment

Your email address will not be published.