जम्मू-कश्मीर। अमरनाथ गुफा के पास एक बड़ा हादसा हुआ है। बादल फटने की घटना से 12 से ज्यादा श्रद्धालुओं की मौत हो गयी है। बचाव अभियान के लिए एनडीआरएफ (NDRF), एसडीआरपी (SDRF) और अन्य सहयोगी एजेंसियों को सक्रिय कर दिया गया है. मौके पर राहत बचाव का काम जारी है. तीर्थयात्रियों के कई टेंटों में नुकसान की भी खबर है. बताया जा रहा है कि आज शाम करीब 5:30 बजे बादल फटा है.
बादल फटने के बाद सैलाब टैंटों के बीच से बहने लगा था,

जिसके बाद श्रद्धालुओं के बीच हाहाकार मच गया. इसकी चपेट में कई लोग आ गए थे. राहत और बचाव कार्य में जुटीं टीमें वहां देख रही हैं कि कुछ लोग बह तो नहीं गए. जानकारी के मुताबिक, यहां बालटाल का रास्ते पर भी आईटीबीपी और एनडीआरएफ की टीम लगाई थी. वहां मौजूद सभी लोगों को सुरक्षित निकालने की कोशिश की जा रही है. आने वाले समय में श्राइन बोर्ड की ओर से हेल्प लाइन भी जारी किया जाएगा. जिनके परिजन वहां गए हैं, वो उस नंबर से जानकारी ले सकते हैं.
आईटीबीपी पीआरओ ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है, बारिश अभी भी जारी है. खतरे के स्तर को देखते हुए क्षेत्र में पानी भर जाने के कारण अमरनाथ यात्रा को अस्थायी रूप से रोक दिया गया है. अगर मौसम सामान्य रहा और अस्थायी व्यवस्था की गई तो कल से यात्रा फिर से शुरू की जा सकती है. घायलों को इलाज के लिए एयरलिफ्ट किया जा रहा है.
आज करीब 8-10 हजार लोग यात्रा में शामिल थे. भक्तों में उत्साह बढ़ा हुआ था. इसी बीच ये घटना हो गई है. रेस्क्यू ऑपरेशन से जुड़ी जानकारी के लिए आजतक ने एनडीआरएफ के डीजी अतुल करवाल से बात की है. अमरनाथ गुफा के पास बादल फटने से 10 लोगों की मौत हो गई है. अतुल करवाल के मुताबिक, बादल फटने की सूचना मिली थी. एक टीम पवित्र गुफा के पास ही है. हमने आस-पास तैनात टीमों को भी वहां रवाना कर दिया है. उन्होंने कहा कि अभी हम कंफर्म नहीं कर सकते हैं कि कितने लोगों की मौत हुई है. कुल कितने लोगों की मौजदूगी थी, ये भी तय नहीं है.

Leave a comment

Your email address will not be published.