नयी दिल्ली । अग्निपथ सेना स्कीमी को लेकर चल रहे बवाल के बीच केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। अब CAPFs और असम राइफल्स में होने वाली भर्तियों में अग्नीवीर को आरक्षण दिया जायेगा।

गृह मंत्रालय के मुताबिक अर्दधसैनिक बलों में अग्निवीरों को 10 फीसदी आरक्षण दिया जायेगा। देश के कई हिस्सों में अग्निपथ पर लगातार हो रहे बवाल के बीच गृहमंत्रालय की तरफ से अग्नीवीरों को आरक्षण और आयु सीमा में छूट की घोषणा की गयी है। गृह मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि अग्निपथ योजना के अतंर्गत 4 साल पूरा करने वाले अग्नीवीरों को 10 प्रतिशत सीट के आरक्षण का लाभ CAPFs और असम राइफल्स में मिलेगा। इन अग्नीवीरों को आयुसीमा में अधिकतम 3 वर्ष की छूट भी दी जायेगी. अग्निपथ योजना के पहले बैच के लिए यह छूट 5 वर्ष की होगी।

आपको बता दें कि पिछले चार दिनों से देश के अलग-अलग हिस्सों में युवाओं का प्रदर्शन चल रहा है। युवा सेना में चार साल की सेवा स्कीम अग्निपथ का विरोध कर रहे हैं। युवाओं को इस बात की चिंता है कि अगर चार साल तक उन्होंने देश सेवा की, तो पांचवें साल वो बेरोजगार हो जायेगा। 25 साल की उम्र में बेरोजगारी के बाद उन्हें अपने भविष्य की चिंता सता रही है। युवाओं को कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दलों का भी साथ मिल रहा है। कांग्रेस ने तत्काल युवाओं के हित में फैसला लेते हुए अग्नीपथ योजना को बंद करने की मांग की है। राहुल गांधी ने भी इस मामले में केंद्र सरकार को कटघरे में खड़ा किया है।

इधर सेना ने साफ कह दिया है कि दो दिनों के भीतर सेना में भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी। सेना के अफसरों के मुताबिक प्रारंभिक इधिसूचना के बाद सेना की विभिन्न अधिसूचना जारी होने के बाद सेना की विभिन्न एजेंसियों और प्रतिष्ठान बाद में भर्ती प्रक्रिया के विवरण जैसे रिक्तियों की संख्या, भर्ती रैलियां और परीक्षा के कार्यक्रमों की जानकारी देंगे। सेना ने अग्नीपथ के तहत भर्ती होने वाले युवाओं के लिए दिसंबर से प्रशिक्षण का लक्ष्य रखा है। वहीं अगले साल जून तक नयी योजना के तहत भर्ती रंगरूटों को अलग-अलग जगहों पर तैनात कर दिया जायेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.