पूर्णिया। सब इंस्पेक्टर को विलिजेंस की टीम ने घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। SI को 40 हजार रूपये की रिश्वत लेते विजिलेंस टीम ने पकड़ा है। सब इंस्पेक्टर के साथ-साथ उनके सहयोगी मोहम्मद एनुल को भी टीम ने गिरफ्तार किया है। आरोपी सब इंस्पेक्टर और उसके सहयोगी को गिरफ्तार करने के बाद विजिलेंस की टीम पूछताछ कर रही है।

दरअसल महिला से एक केस में नाम हटाने के एवज में सब इंस्पेक्टर ने 40 हजार रुपये की डिमांड की थी। पैसे नहीं देने पर गिरफ्तार करने और जेल में बंद करा देने की धमकी जा रही थी। इस मामले में सब इस्पेक्टर का दलाल एनुल भी राजदार बना हुआ था। परेशान होकर महिला शिकायतकर्ता ऩे इसकी सूचना विजिलेंस की टीम को दी। विजिलेंस की टीम ने जब अपने स्तर से मामले की जांच की तो प्रकरण सही पाया गया।

मंगलवार को विजिलेंस की टीम ने महिला को केमिकल लगे नोट दिये और उसे रिश्वत के तौर पर सब इंस्पेक्टर को देने को कहा। महिला ने जब पैसे देने के लिए सब इंस्पेक्टर को फोन किया तो SI ने फरियादी को थाने के बजाय बगल के चाय दुकान में बुलाया। उधर महिला ने पैसे निकालकर एसआई को 30 हजार और उसके दलाल एनुल को 10 हजार दिये।

पैसे देने के बाद महिला ने जैसे ही इशारा किया, सादे लिबास में इधर-उधर खड़ी विजिलेंस की टीम ने सब इंस्पेक्टर को दबोच लिया। एसआई अपने कमर में पिस्टल लटकाये ही अपने दलाल के साथ मिलकर घूसखोरी का ये काम कर रहा था। इससे पहले संतोष कुमार पूर्णिया जिले के कसबा थाने के थानेदार हुआ करते थे, वहां भी कार्य में लापरवाही करने के कारण जिले के एसपी ने उन्हें सस्पेंड कर लाइन हाजिर कर दिया था. पूर्णिया जिले में विजिलेंस की ये दूसरी सबसे बड़ी कार्रवाई है. इससे पहले विजिलेंस ने बायसी थाने के दारोगा को  पकड़ कर जेल भेजा था.

Leave a comment

Your email address will not be published.