नयी दिल्ली। महंगाई से कराह रही जनता को हर दिन नये झटके मिल रहे हैं। बेकाबू महंगाई को नियंत्रित करने रिजर्व बैंक रेपो रेट को बढ़ाने के रास्ते पर है। रिजर्व बैंक की तरफ से रेपो रेट बढ़ाने के 24 घंटे के भीतर ही 7 बैंकों ने ब्याज दर बढ़ाने का फैसला किया है।

आईसीआईसीआई बैंक ने ग्राहकों पर बढ़ी दरों का बोझ डाला है। ICICI बैंक ने बेंचमार्क लेडिंग रेड को 0.50 से बढ़ाकर 8.60 प्रतिशत कर लिया है। बैंक ने इसे लेकर एक नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। एक्सटर्नल बेंचमार्क लेडिंग रेट की बढी दर 8 जून से लागू भी हो गयी है। बैंक ने MCLR को भी बढ़ा दिया है। MCLR की बढ़ी दर 1 जून से लागू हो गयी है। बैंक ने कहा है कि ओवरनाइट एह महीने और तीन महीने के लिए MCLR अब क्रमश: 7.30 फीसदी और 7.35 फीसदी होगा।

बैंक आफ बड़ौदा ने भी रेपपो लिक्विड लेडिंग रेट को बढ़ाने का ऐलान किया है। बैंक ने कहा कि अब यह दर बढ़कर 7.40 फीसदी हो गयी है। इसमें 4.90 फीसदी हिस्सा आरबीआई के रेपो रेट का है।

पंजाब नेशनल बैंक ने भी रेपो लिंक्ड लेडिंग रेट को बढ़ा दिया है। पीएनबी ने RLLR को बढ़ाकर 7.40 फीसदी कर दिया है। 9 जून से ये आदेश प्रभावी हो गया है।

बैंक आफ इंडिया ने भी ब्याज दर बढ़ाने को लेकर वेबसाइट पर अपनी सूचना दी है। बैंक आफ इंडिया ने रेपो बेस्ट लेडिंग रेट RBLR को बढ़ाकर 7.75 प्रतिशत कर दिया है। बैंक आफ इंडिया ने कहा कि उसने रिजर्व बैंक के रेपो रेट को बढ़ाकर 4.90 फीसदी करने के ब्याज दर बढ़ाने का फैसला लिया है।

HDFC लिमिटेड ने भी हाउसिंग लोन के बेंचमार्क रिटेल प्राइम लेंडिंग रेट को बढ़ा दिया है। एचडीएफसी लिमिटेड के एडजस्टेबल रेड होम लोन इसी रेट पर बेस्ड होते हैं।

इंडियन ओवरसीज बैक ने भी ब्याज दरों को बढ़ाने की जानकारी दी है। इंडियन ओवरसीज बैंक ने कहा है कि उसने रेपो लिंक्ड रेट को बढ़ाकर 7.75 प्रतिशत करने का फैसला लिया है। ये आदेश 10 जून से लागू होगा।

एचडीएफसी बैंक ने भी कार लोन और पर्सनल लोन की ब्याज दर बढ़ाई है। बैंक ने रेपो लिंक्ड रेट को 7.40 प्रतिशत कर दिया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.