जोधपुर। भारतीय सेना में हनीट्रैप का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। आरोप है कि इंडियन आर्मी के एक जवान को पाकिस्तानी जासूस हनीट्रैप में फंसाकर भारतीय सेना से जुड़ी जानकारी ले रही थी। पुलिस ने इस मामले में जोधपुर में तैनात इंडियन आर्मी के जवान को गिरफ्तार किया है। आरोपी जवान का नाम प्रदीप कुमार है। इंटेलिजेंस को पूछताछ में आरोपी जवान प्रदीप कुमार ने बताया है कि वो लड़की को भारतीय सेना से जुड़ी जानकारी दे रहा था। उसने अपने मोबाइल सीम के नंबर और OTP को भी शेयर किया है।

दरअसल राजस्थान इंटेलिजेंस को एक भारतीय जवान के पाकिस्तान के किसी महिला एजेंट के साथ संपर्क में होने की जानकारी मिली थी। खुफिया विभाग ने इस जवान का सर्विलांस शुरू किया तो मालूम चला कि प्रदीप कुमार सोशल मीडिया के जरिये भारतीय सेना के अति संवेदनशील रेजिंमेंट की जानकारी और भारतीय सेना के इनपुट को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी को शेयर कर रहा है। जयपुर की CID की टीम ने जवान पर लगातार नजर रखना शुरू किया निगरानी के दौरान ये जानकारी आयी कि प्रदीप लगातार महिला एजेंट के साथ सोशल मीडिया के जरिये संपर्क में था और सूचनाएं साझा कर रहा था।

24 वर्षीय प्रदीप कुमार मूल रूप से उत्तराखंड  के रूड़की का रहने वाला है। तीन वर्ष पूर्व ही वो सेना में भर्ती हुआ था। ट्रेनिंग के बाद वो गनर के रूप में जोधपुर में सेना की अतिसंवेदनशील रेजिमेंट में पोस्टेड था। सात महीने पहले उसके नंबर पर एक अनजान महिला का फोन आया। महिला लगातार प्रदीप को फोन करती थी, जिसकी वजह से दोनों में दोस्ती हो गयी और फिर दोनों अक्सर बात करने लगे। सोशल मीडिया पर भी दोनों टच में थे। महिला ने खुद को एमपी की रहने वाली बताकर दोस्ती करती रही। लड़की ने ये भी बताया कि वो बैंग्लुरू में मल्टीनेशनल कंपनी में काम करती है।

महिला के झांसे में आकर जवान ने कई महत्वपूर्ण जानकारी उसके साथ साझा कर ली। कई सारे उसने डाक्यूमेंट मांगे, जो जवान ने उसे उपलब्ध कराये। पाकिस्तानी महिला जासूस ने जवान का शादी का भी झांसा दिया था। दोनों के बीच काफी वीडियो काल भी होती थी। दिल्ली में वो मिलने की भी बात की थी।

राजस्थान की इंटेलिजेंस की टम ने 18 मई को प्रदीप को हिरासत में लिया था और पूछताछ शुरू की थी। जानकारी पुष्ट होने के बाद आरोपी को जवान को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी जवान ने इस बात को स्वीकार किया कि उसने एक सीम भी महिला को दिया है। आशंका है कि उस सीम के जरिये महिला अन्य जवानों को भी अपना शिकार बनायेगी। आपको बता दें कि ये पहले भी इस तरह की घटनाएं होती रही है कि जवानों को पाकिस्तानी जासूस टारगेट करते रहे हैं। इसलिए संवेदनशील जगहों पर पदस्थ जवानों को सोशल मीडिया से दूर रहने को कहा जाता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.