पटना : बिहार में नीतीश सरकार बिहार के विकास को लेकर काफी अग्रसर है । बिहार के सभी क्षेत्रों में अधिक से अधिक विकास कैसे विकास हो,इसकी संभावना हर वक्त तलाशती रहती है। इसी संबंध में राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से खाड़ी देशों के अलावा धर्म नगरी गया से दक्षिण पूर्व एशियाई देश जैसे थाईलैंड ,वियतनाम ,बैंकाक और सिंगापुर के लिए कम लागत वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ाने शुरू करने के विकल्प ढूंढने का प्रस्ताव दिया है । इसके अलावा भागलपुर, सहरसा, वीरपुर (सुपौल जिला ) किशनगंज और बाल्मीकि नगर (पश्चिम चंपारण जिला ) में भी छोटे हवाई अड्डा को शुरू करने का प्रस्ताव रखा है।

बीते दिनों में बिहार सरकार नागरिक उड्डयन मंत्रालय MOCAऔर फिक्की (FICCI) के द्वारा एक सम्मेलन का आयोजन किया गया था ,जिसमें निवेश आकर्षित करने नए ,व्यवसाय की पहचान करने ,क्षेत्रीय संपर्क बढ़ाने एवं हवाई अड्डों के ढांचे को विकसित करने पर बल दिया गया था।

बिहार सरकार वशिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान फिक्सड विंग एयरक्राफ्ट और हेलीकॉप्टर सेवा के माध्यम से अंतर जिला हवाई संपर्क को पूरी तरह से मजबूत करने के लिए विभिन्न जिलों में हेलीपैड विकसित करने का आश्वासन दिया गया है ।इसके साथ ही राज्य के पूर्णिया और बिहटा (पटना) में एरोड्रम विकसित करने का भी प्रस्ताव इस बैठक में दिया गया था , जो वर्तमान में वायु सेना के एयरबेस के रूप में काम कर रही हैं।

राज्य नागरिक उड्डयन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा यह जानकारी दी गई है कि केंद्र को भेजा गया प्रस्ताव देश की आम नागरिक क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना उड़ान आरसीएस के आधार पर विकसित किया जा सकता है जो एक क्षेत्रीय हवाई अड्डा विकास कार्यक्रम है उन्होंने बताया कि पिछले पिछले महीने दिल्ली में दिल्ली में छोटे विमान और हेलीकॉप्टर यह साथ एक बैठक की गई थी जिसमें की विभिन्न एयर ऑपरेटर को जैसे इंडिगो और स्पाइसजेट के साथ साथ पवन हंस और कई अन्य निजी कंपनियां जैसे हेलीकॉप्टर ऑपरेटर जो चुनाव के समय अपने हेलीकॉप्टरों को पट्टी पर देते हैं ,यह प्रस्ताव पसंद आया।

उन्होंने बताया कि राज्य में पर्यटन क्षमता को बढ़ावा देने पर इजी माई ट्रिप इत्यादि जैसे टूर इंटीग्रेटर्स के विचार जानने के लिए आमंत्रित किया गया था। राज्य अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए विशेष रुप से गया राजगीर वैशाली पटना मार्ग पर हवाई संपर्क हवाई संपर्क विकसित करना चाहते हैं 20 से ही दरभंगा हवाई अड्डे से हवाई सेवा के नियमित वाणिज्यिक संचालन के माध्यम से राज्य को बहुत लाभ प्राप्त हुआ है। दरभंगा हवाई अड्डे की दिल्ली ,मुंबई ,कोलकाता ,हैदराबाद और बेंगलुरु के साथ-साथ सीधी उड़ान संभव है ,जबकि पटना अब UDAN -2.0 योजना के तहत अमृतसर, ,वाराणसी और प्रयागराज से जुड़ा है।

बिहार में विदेशी पर्यटक की संख्या 1.01 थी जो 2019 में बढ़कर 1.09 मिलियन हो गई थी। भारत में विदेशी पर्यटक के आगमन मे राज्य का कुल योगदान 3.77 प्रतिशत है। 2019मे इसका आंकड़ा 5.63 मिलियन था। राज्य में करीब 26 हवाई अड्डे है , जिनमे से पांच पटना, गया, बिहटा, पूर्णिया और दरभंगा में है। वाणिज्य उड़ाने पटना, गया और दरभंगा हवाई अड्डा से संचालित होती है जबकि बिहटा और पूर्णिया रक्षा हवाई अड्डे के रूप में कार्यरत है।

Leave a comment

Your email address will not be published.