चंडीगढ़। पंचाब में गायक व कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या ने सनसनी फैला दी है। दिल्ली से लेकर पंजाब तक की राजनीति इस मामले में गरम है। हालांकि सिद्धू की हत्या किसी पंजाबी गांयक की पहली हत्या नहीं है, इससे पहले भी कई सिंगर और म्यूजिक इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का खून पंजाब में हुआ है।

सिद्धू मूसेवाला

सिद्धू मूसेवाला युवाओं का पसंदीदा गायक था। कई पार्टी और शो में मूसेवाला का गाना काफी पापुलर रहते थे। मूसेवाला पर रविवार की शाम जवाहरके गांव के पास फायरिंग हुई। खबर है कि उन्हें गोलियों से छलनी कर दिया गया था। उन्हें कम से कम 30 गोलियां मारी गयी थी। मूसेवाला के साथ दो अन्य लोग भी थे, दोनों की स्थिति भी गंभीर है। पंजाबी सिंगर सिद्धू सिंह मूसेवाला की हत्या की प्रारंभिक जांच शुरू हो गयी है। SIT बनाकर मामले की जांच की जा रही है। मूसेवाला की हत्या की बात करें तो कनाडा से गैंग चला रहे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने मूसेवाला की मौत की जिम्मेदारी ली है। मूसेवाला की हत्या से साफ है कि अपराधी पूरी प्लानिंग और टारगेट को तय कर आये थे। गोलियों की बौछार जिस तरह से की गयी है, उससे एक बात साफ है कि अपराधी किसी कीमत पर सिद्धू को जिंदा नहीं छोड़ना चाह रहे थे। पहले ये बातें सामने आयी थी कि मूसेवाला की हत्या मोस्ट वांटेड गैंगस्टर लारेंस विश्नोई ने की है, लेकिन गोल्ड़ी बराड़ के कबूलनामे से जांच की कड़ियों को घुमा दिया है।

2018 में परमीश वर्मा पर गोलियां चली

साल 2018 में पंजाब के चर्चित गायक परमीश वर्मा पर हमला हुआ था। हालांकि इस हमले में वो बाल बाल बच गये। परमीश पर गोलियां पैसे के लिए की बरसायी गयी थी। इस मामले में आरोप गैंगस्टर दिलप्रीत बावा पर था। अभी भी इस मामले में केस चल ही रह है।

1996 में दिलशाल अख्तर

पंजाब के चर्चिंत गायब दिलशाल अख्तर की भी अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। 1996 में दिलशाल पर गोलियां चली थी।

अमर सिंह चमकीला 1988

पंजाब के बहुत चर्चित गायक व गीतकार अमर सिंह चमकीला और उनकी पत्नी अमरजोत की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। 8 मार्च 1988 को जब वो अपनी गाड़ी में पत्नी के साथ जा रहे थे, उस वक्त उन पर हमला हो गया। इस हमले में अमर चमकीला और उनकी पत्नी अमरजोत दोनों की मौत हो गयी थी। इस मामले में पुलिस अभी भी जांच कर रही है।

Leave a comment

Your email address will not be published.