बरगड़(उड़ीशा)। घूसखोर विजिलेंस महिला अधिकारी को रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। लेडी अफसर ने एक सरकारी कर्मचारी से जांच बंद करने के नाम पर 10 लाख रूपये घूस की डिमांड की थी। कमाल की बात ये है कि विजिलेंस की इस महिला अधिकारी को उसी के विभाग की टीम ने गिरफ्तार किया है। सरकारी कर्मचारी ने महिला अधिकारी को ये घूस एक बिचौलिये के माध्यम से दे रहा था। गिरफ्तारी के बाद अब महिला अधिकारी के अलग-अलग ठिकानों पर लगातार कार्रवाई चल रही है।


बरगढ़ के सरकारी दफ्तर में तैनात कर्मचारी के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत संबलपुर डिवीजन की विजिलेंस की टीम को मिली थी। जांच की जिम्मेदारी इंस्पेक्टर मानसी जैन को दी गयी थी। आरोप है कि मामले में मानसी जेना ने कर्मचारी से जांच को बंद करने के नाम पर 10 लाख रूपये की डिमांड की थी। इस रकम को लेकर उसने विजिलेंस टीम में शिकायत कर दी।


विजिलेंस की टीम ने जांच की तो अपनी ही महिला इंस्पेक्टर के खिलाफ उसे शिकायत सही मिली, जिसके बाद मानसी जैन को गिरफ्तार करने का जाल फैलाया गया। मानसी जेना को पैसे की पहली किश्त देने की बात कही गयी और फिर शिकायतकर्ता कर्मचारी ने अपने एक परिचित के आदमी को महिला इंस्पेक्टर को रकम देने के लिए भेजा।


इंस्पेक्टर मानसी जेना को जैसे ही शिकायतकर्ता के करीबी ने पैसे सौंपे, विजिलेंस की टीम ने इशारा मिलते ही महिला इंस्पेक्टर को धर दबोचा। रंगे हाथों हुई गिरफ्तारी में महिला इंस्पेक्टर के पास से घूस में दी गयी रकम भी बरामद की गयी है। गिरफ्तारी के बाद अब महिला इंस्पेक्टर के अलग-अलग ठिकानों पर कार्रवाई शुरू हो गयी है। महिला इस्पेक्टर के घर, दफ्तर और करीबियों के ठिकाने पर जांच चल रही है। माना जा रहा है कि घूस की रकम को लेकर और भी चौकाने वाले खुलासे हो सकते हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.