रांची। झारखंड में सोमवार को उस वक्त अचानक से राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गयी, जब झारखंड मुक्ति मोर्चा ने ये दावा कर दिया कि भाजपा के 16 विधायक JMM के संपर्क में है, जो भाजपा से नाता तोड़कर जेएमएम को सपोर्ट करना चाहते हैं। जेएमएम पार्टी कार्यालय में केंद्रीय समिति के सदस्य सुप्रियों भट्टाचार्य ने मीडिया से बातचीत में बताया कि भाजपा के विधायक अपने अध्यक्ष और पार्टी विधायक दल के स्वयंभू नेता से नाराज हैं। दोनों नेताओं से नाराज बीजेपी के 16 विधायक जेएमएम के संपर्क में हैं, भाजपा के नाराज विधायक अपना अलग गुट बनाने वाले हैं।

झामुमो भाजपा विधायको के प्रस्ताव पर विचार कर रहा है। जो लोग नया गुट बनाना चाहते हैं। उन्हें इसमें महारत हासिल है। सुप्रियो भट्टाचार्य ने सोमवार को ऐतिहासिक दिन बताते हुए कहा कि पहली बार जनजातीय आदिवासी समुदाय से आने वाली महिला राष्ट्रपति बनी है।

बीजेपी ने झामुमों के दावों की उड़ायी खिल्ली

झामुमो द्वारा भाजपा के 16 विधायकों के संपर्क में रहने के दावे को भाजपा ने हास्यास्पद बताया है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि झामुमो झूठ के अपने पुराने सभी रिकार्ड तोड़ रही है। झामुमों अपने अस्तित्व की चिंता करे। भ्रष्टाचार के कारण पार्टी समाप्ति की कगार पर है। सरकार को पहले लोबिन हेंब्रम और सीता सोरेन के सवालों का जवाब देना चाहिये, जिन्होंने भ्रष्टाचार को लेकर गंभीर सवाल खड़े किये हैं।

उधर भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि वंशवाद की बुनियाद पर अयोग्य के हाथों में सत्ता जाने से हो रही चौतरफा लूट के चलते झारखंड माल मुद्रा पार्टी एक डूबता हुआ जहाज है। इसकी सवारी कोई नहीं करना चाहेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.