रांची। शुक्रवार को रांची में हुई हिंसा मामले में प्रदर्शकारियों ने पहले फायरिंग शुरू की थी। इसी फायरिंग का पुलिस ने जवाब दिया था। इस घटना में दो लोगों की मौत हो गयी थी, वहीं कई लोग घायल हो गये थे। रांची के सिटी एसपी ने आंज तक को दिये अपने बयान में बताया है कि पहली गोली भीड़ की तरफ से चला गयी थी, जिसके जवाब में पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी।

एसपी सिटी ने बताया है कि रांची मेन रोड पर जहां ये पूरी हिंसा हुई है, वहां घटना के एक दिन पहले रात को बीजेपी से बाहर की गयी प्रवक्ता नुपूर शर्मा के पोस्टर बांटे गये थे। जिसमें नमाज के बाद लोगों को इक्ट्ठा होन क लिए कहा गया था। घटना वाले दिन नमाज के बाद तकरीर हुई, जिसके बाद प्रदर्शन मार्च दूसरी तरफ रवाना हो गया। कुछ देर बाद जुलूस लौटा और मस्जिद के सामने से होते हुए हनुमान मंदिर की तरफ बढ़ने लगा, यहीं से माहौल बिगड़ने की शुरु हो गया।

इस मामले में राज्य सरकार ने एक हाईलेवल कमेटी बनायी है, ये कमेटी एक सप्ताह में अपनी रिपोर्ट देगी। सचिव अमिताभ कौशल और एडीजी संजय लाटकर इस मामले की जांच करेंगे। इधर घटना में मारे गये कैफी और मोहम्मद साहिल का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। वहीं एक अन्य घायल नदीम का इलाज चल रहा है। नदीम की स्थिति अभी गंभीर बनी हुई है।                                                                   

Leave a comment

Your email address will not be published.