झारखंड के जामताड़ा जिले में स्थानीय लोगों ने सरकारी नियमों को तोड़ते हुए स्कूलों पर मनमाने नियम थोप दिए हैं। इलाके में सैकड़ों स्कूलों में अब सरकारी नियमों के हिसाब से रविवार को साप्ताहिक अवकाश नहीं होता है, बल्कि शुक्रवार को छुट्टी रहती है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इलाके के कुछ मुस्लिम युवकों ने नियम बदलने की शुरुआत दो -तीन स्कूलों से की थी। फिर बाद में यह मनमर्जी एक सौ से ज्यादा स्कूलों तक पहुंच गई।इन्होंने स्कूल मैनेजमेंट पर दबाव बनाया कि इलाके में 70% से अधिक मुस्लिम आबादी है, और यहां के स्कूलों में मुस्लिम बच्चे भी अधिक है। इसलिए यहां रविवार को पढ़ाई होगी और शुक्रवार को छुट्टी होगी।

हैरान करने वाली बात यह है कि इलाके के कई स्कूलों के नाम के आगे उर्दू शब्द भी जोड़ दिया गया है। जबकि ना ही इन स्कूलों में उर्दू पढ़ाई जाती है, और ना ही यहां उर्दू का कोई टीचर है। इस मामले को लेकर अफसरों को कोई जानकारी नहीं है ।दूसरी और मामला को लेकर झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने हमला बोला ।उन्होंने लिखा है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी आप झारखंड को किस ओर ले जा रहे हैं?? समाज में जहर घोलने ऐसो असंवैधानिक वाली कार्यवाही पर रोक लगाइये बल्कि ऐसे समाज विरोधी ताकतों पर कठोर कार्रवाई कीजिए।

Leave a comment

Your email address will not be published.