पटना। बिहार में शिक्षक भर्ती में देरी पर आक्रोश गहराता जा रहा है। रविवार को शिक्षक अभ्यर्थियों ने ट्विटर अभियान चलाया। देखते ही देखते शिक्षक अभ्यर्थियों का ट्विट ट्रेंड करने लगा, काफी देर तक शिक्षक अभ्यर्थियों का ट्वीट नंबर वन पर ट्रेंड करता रहा। अभियान का नेतृत्व सुप्रिया प्रीतम तिवारी ने किया। दरअसल सातवें चरण की भर्ती केलिए जुलाई की तारीख तय की गयी थी, लेकिन अभी तक जुलाई महीने में विज्ञापन को लेकर कोई पहल नहीं की गयी है। #biharneedsprimaryteachers ट्वीट पर ट्रेंड काफी देर तक नंबर वन पर करता रहा। 

लिहाजा, नाराज अभ्यर्थियों ने सातवें चरण की बहाली के लिए जल्द विज्ञापन जारी करने, आनलाइन, सेंट्रलाइज और डोमिसाइल तरीके से भर्ती कराने की मांग के साथ ट्विटर पर अभियान छेडा। अभ्यर्थियों ने कहा कि अगर सातवें चरण की भर्तियां जल्द शुरू नहीं हुई तो अगस्त से आंदोलन को अभ्यर्थी विवश होंगे।

ट्वीट्स अभियान में लाखों अभ्यर्थियों ने हिस्सा लिया। #biharneedsprimaryteachers पर लाखों लोगों ने ट्वीट किया। शिक्षक नियोजन को लेकर लाखों युवा आक्रोशित हैं। सीटीईटी पास छात्रों ने सातवें चरण के लिए शिक्षक नियोजन को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था। छात्रों का आरोप है कि सरकार शिक्षक नियोजन को लेकर आश्वासन दे रही है। सातवें चरण के शिक्षक नियोजन की घोषणा नहीं कर रही है।

Leave a comment

Your email address will not be published.