कोलकाता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शुक्रवार को पश्चिम बंगाल की पहली बंदे मातरम एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई। कार्यक्रम हावड़ा स्टेशन पर हो रहा था और पीएम अहमदाबाद में इसमें वर्चुअली जुड़े। बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी इसमें शामिल होने पहुंची। ममता के कार्यक्रम में पहुंचते ही हावड़ा स्टेशन पर जबरदस्त ड्रामा हो गया।

यहां देखे विडियो ….

दरअसल जब ममता मंच पर जा रही थी तब भीड़ से जय श्रीराम के नारे लगने लगे ।हंगामे के दौरान ममता के साथ रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव समेत चार केंद्रीय मंत्री भी इस दौरान मौजूद थे। इस पर ममता भड़क गई और मंच पर बैठने से इनकार कर दिया।

इसके बाद रेल मंत्री और राज्यपाल सीवी आनंद बोस ने ममता को मनाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने। हालांकि बाद में ममता स्टेज के सामने दर्शक दीर्घा में कुर्सी लगाकर बैठ गई। बाद में उन्होंने अपना संबोधन भी दिया।

रेल मंत्री बोले कार्यकर्ता तो नारा लगाते ही है

मेट्रो रेल की सवारी के बाद रेल मंत्री वैष्णव ने तरातला से मीडिया के सवाल पर कहा कि मुख्यमंत्री को आदर और सम्मान के साथ आमंत्रित किया गया था। ऐसी कोई बात नहीं हुई कि नाराज होने की बात है। कार्यकर्ता तो नारा लगाते ही हैं।

कार्यक्रम के दौरान ममता बनर्जी ने कहा आज उनके लिए काफी खुशी का दिन है। जब वे रेल मंत्री थी तब उन्होंने तारातला जोका मेट्रो स्टेशन का उद्घाटन किया था। उस समय प्रतिभा पाटिल वहां आई थी। उन्होंने कहा कि उन 5 परियोजनाओं में से चार उनके रेल मंत्री होने के समय की थी। उन्होंने पीएम मोदी को धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्हें खुशी है कि प्रधानमंत्री ने इसका उद्घाटन किया। उन्होंने आगे कहा कि जब उन्हें बेहाला में उनका ड्रीम प्रोजेक्ट जल्द पूरा होता हुआ नजर आ रहा है। ममता ने कहा कि जब हुए रेलमंत्री थी उन्होंने 50 विश्वस्तरीय स्टेशन के लिए एक पत्र प्रस्तुत किया था। इस लिस्ट में जलपाईगुड़ी का नाम भी शामिल था। ममता ने इस बात पर खुशी जताई कि अब उनकी इच्छा पूरी हो सकेगी।