सासाराम: मां तो मां होती है… फिर चाहे वो इंसान हो या बेजुबान …। मंगलवार को एक बंदरिया ने ममत्व की एक ऐसी ही मिसाल पेश की। एक बंदरिया अपने घायल बच्चे को लेकर नर्सिंग होम में इलाज कराने पहुंच गयी। बंदरिया का सीने में चिपकाये बच्चे को लेकर डाक्टर के चैंबर में जाने और फिर इलाज करवाने का ये वीडियो बड़ी तेजी से सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में साफ दिख रहा है कि मरीज के बैठने वाले स्टूल में बंदरिया अपने बच्चे को लेकर सीने से चिपकाये बैठी है। डाक्टर जब तक इलाज करते रहे बंदरिया उसी तरह से अपने बच्चे को लेकर बैठी रही। मरहम पट्टी के बाद बंदरिया अपने बच्चे को लेकर वहां से चली गयी।

बंदरियां के इस ममत्व का ये वीडियो जिस किसी ने भी देखा, वो हैरान रह गया। बंदरिया का इलाज करने वाले डाक्टर एसएम अहमद के अनुसार बंदरिया के बच्चे को किसी तरह से चोट लग गयी थी। घायल बंदरिया अचानक से अपने बच्चे को लेकर उनके क्लिनिक पहुंच गयी। पहले वो अस्पताल के बाद बेंच पर बैठी और फिर धीरे-धीरे डाक्टर के चैंबर में आ गयी। हैरत तब और हो गयी, जब वो मरीज के बैठने वाले स्टूल की तरफ देख रही थी, डाक्टर ने जैसे ही बैठने का इशारा किया, वो बच्चे को लेकर उसी स्टूल पर बैठ गयी। घायल बंदरिया के बच्चे का दवा और मरहम होता रहा, और बंदरिया वहीं बैठी रही। इस दौरान वो अपने बच्चे को पकड़ी रही।

बंदरिया ने मौजूद लोगों को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुचाया। बच्चे के इलाज के बाद बंदरिया ने अपने भी जख्म की तरफ इशारा किया, जिसके बाद डाक्टर ने बंदरिया के भी जख्म में दवा लगायी। मरीज बनकर अस्पताल पहुंची बंदरिया के बारे में जैसे ही लोगों को जानकारी हुई, लोगों की भीड़ जमा हो गयी।

बंदरिया तब तक मरीज के स्टूल में बैठी रही, जब तक कि डाक्टर ने इशारा करके उसे जाने के लिए नहीं बोल दिया। डाक्टर के बोलने के बाद बंदरिया वहां से बच्चे को लेकर चली गयी। अस्पताल से निकलते ही बंदरिया कहां ओझल हो गयी, उसका पता नहीं चला।  

Leave a comment

Your email address will not be published.