रांची। मंत्री आलमगीर आलम की गिरफ्तारी के बाद राजनीति गरम हो गयी है। भाजपा की तरफ से लगातार भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस और झारखंड सरकार को घेरा जा रहा है। राजस्थान, मध्यप्रदेश, असम के मुख्यमंत्री ने आलमगीर आलम की गिरफ्तारी को कांग्रेस पार्टी की परिपाटी से जोड़ा है। भाजपा की तरफ से मध्यप्रदेश के मोहन यादव, राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा और असम के मुख्यमंत्री हेमंत विस्वा शर्मा ने कांग्रेस पर आलमगीर आलम की गिरफ्तारी को लेकर जमकर हमला बोला है।

आपको बता दें कि झारखंड सरकार में मंत्री और कांग्रेस नेता आलमगीर आलम को ईडी ने गिरफ्तार कर लिया है. कुछ दिनों पहले उनके ओएसडी और नौकर के घर से करोड़ों रुपए बरामद हुए थे. ईडी पिछले दो दिनों से उनसे पूछताछ कर रही थी. मंगलवार को ईडी ने उनसे करीब नौ घंटे पूछताछ की थी। आलमगीर आलम के ओएसडी और नौकर के घर से करोड़ रुपए कैश बरामद हुए थे. इस सिलसिले में ईडी उनसे पूछताछ कर रही थी. मंगलवार को भी उनसे करीब 9 घंटे पूछताछ हुई थी. इसक बाद ईडी ने उन्हें आज बुलाया था. पूछताछ के दौरान उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने मंत्री आलमगीर आलम की गिरफ्तारी पर कहा है कि जो जैसा करेगा, वैसा ही भुक्तेगा।

वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने कहा है कि तुष्टिकरण और परिवारवाद के नाम पर देश नहीं चल सकता। देश संविधान के आधार पर चलता है।

वहीं भाजपा नेता प्रतुल शाहदेव ने भी मंत्री आलमगीर आलमगीर आलम की गिरफ्तारी को लेकर कहा कि भ्रष्टाचार का एक और विकेट झारखंड में गिरा है। उन्होंने कहा कि निज सहायक के नौकर के यहां तो 35 करोड़ मिले हैं, वो सिर्फ तीन महीने का कमीशन है। सोचा जा सकता है, कितना बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार का खेल चल रहा है।

वहीं असम के मुख्यमंत्री हेमंत विस्वा सरमा ने भी आलमगीर आलम की गिरफ्तारी पर निशाना साधा है। हेमंत सरमा ने कहा है कि अभी एक आलमगीर आलम की गिरफ्तारी हुई है। इश्वर से प्रार्थना करूंगा कि और भी आलमगीर आलम जल्द गिरफ्तार हों।

वहीं कांग्रेस की तरफ से भी आलमगीर आलम की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया आयी है। कांग्रेस नेता राकेश सिन्हा ने कहा है कि बिना सबूत के आलमगीर आलम को गिरफ्तार किया गया है। अगर किसी सरकारी OSD के पास पैसा मिला है, तो इससे मंत्री का क्या लेना देना है। गिरफ्तार OSD संजीव लाल इससे पहले सीपी सिंह और विमला प्रधान के भी ओएसडी रह चुके हैं। लेकिन वो भाजपा के थे, तो उन पर आरोप नहीं लगा। लेकिन, आलमगीर आलम प्रधानमंत्री की आंखों में आखें डालकर महंगाई, गरीबी, सरना कोड पर बात कर रहे हैं, तो उनकी आंखों में आलमगीर आलम खटक रहे हैं।

हर खबर आप तक सबसे सच्ची और सबसे पक्की पहुंचे। ब्रेकिंग खबरें, फिर चाहे वो राजनीति...