असम: लोकसभा सांसद और AIUDF (ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट) अध्यक्ष मौलाना बदरुद्दीन अजमल विवादित बयान के मामले में खासे चर्चा में हैं। मौलाना अजमल न्यायलय के उस आदेश पर प्रतिक्रिया दे रहे थे जिसमे कोर्ट ने कहा था मुस्लिम लड़कियां 15 वर्ष के बाद शादी कर सकती है। ANI समाचार एजेंसी के हवाले से बताया गया की मौलाना अजमल हिंदू धर्म को मानने वालों के ऊपर विवादित बयान जारी कर दिया।

मौलाना अजमल ने कहा की हिंदू धर्म के ऊपर बयान जारी करते हुए कहा की सरकार ने 18 साल की उम्र के बाद शादी की इजाजत दी है। जिसके बाद हिंदू धर्म के लड़के 40 साल तक एक – दो -तीन बीबियां रखते हैं और बच्चे होने नही देते हैं। खर्चे बचाने के मकसद से वो बच्चा पैदा नहीं करते हैं। संबंध बनाने पर (sex relation) मामला फंसने की स्थिति में या मां बाप के मजबूर करने पर 1 शादी कर लेते हैं। 40 साल के बाद बच्चे पैदा की उम्र खत्म हो जाती है। इसलिए वो लोग बच्चे पैदा नहीं कर पाते।

उन्होंने ये भी कहा की उपजाऊ जमीन पर बीज और दवा डालोगे तो वहां पर पैदावार भी खूब होगी। खेती अच्छी होगी, तरक्की ही तरक्की होगी। उन्होंने सलाह दी की लड़कियों की शादी 18 से 20 साल में कराओ, लड़कों की शादी 20 से 22 साल में कराओ फिर देखिए की आपके यहां भी बच्चे कैसे पैदा नहीं होगी? परंतु दो नंबरी धंधा मत करो।