टीम इंडिया की नज़रें क्लीन स्वीप करने पर

वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज जीतकर लगातार 12वीं सीरीज जितने का रिकॉर्ड बना चुकी टीम इंडिया की निगाहें अब आज होने वाले मैच को जीतकर क्लीन स्वीप करने पर होगी। इससे पहले किसी एक प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ लगातार 11 सीरीज का रिकॉर्ड पाकिस्तान का था।

एम जिसने ज़िम्बाब्वे के खिलाफ ऐसा किया था।
शिखर धवन की कप्तानी में टीम ने दोनों मैच में क़रीबी अंतर से जीत दर्ज की है। दोनों मैचों की तरह इस मैच में भी युवा ब्रिगेड कोई ढिलाई नही छोड़ना चाहेगी और वहीं वेस्टइंडीज टीम आत्मसम्मान और प्रतिष्ठा के लिए मैदान में उतरेगी। भारतीय प्रबंधन कुछ नए खिलाड़ियों को मौका दे सकती है, पर जीत के संयोजन पर कोई फर्क न पड़े इस बात पर ध्यान जरूर रखेगी।

गिल पर भरोसा

शुभमान गिल ने अपने पिछले दोनों पारियों में क्रमश 64 और 43 रनों की पारी खेली है, इस वजह से उनको रुतुराज गायकवाड़ पर तहरिज दी जा सकती है। रुतुराज को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पिछली सीरीज में पूरे मैच खेलने का मौका मिला था पर वो संघर्ष करते नज़र आये थे। श्रेयस और सैमसन ने अपने पिछले मैच में अर्धशतक जड़े थे, इस वजह से उनका स्थान टीम में बने रहने की संभावना है। सूर्यकुमार के दोनों मैचों में नाकामी के बाबजूद उन्हें एक और मौका दिया जा सकता है, ऐसे में ईशान किशन को बाहर बैठना पड़ सकता है।

जडेजा पर संशय

रवींद्र जडेजा को इस सीरीज में उपकप्तान बनाया गया था। आलराउंडर के रूप में वो टीम में पहली पसंद थे, परंतु घुटनों में चोट के कारण वो पहले दोनों मैच से बाहर रहे। अब देखना ये होगा कि क्या वो अंतिम मैच के लिए फिट है या नहीं। जडेजा की अनुपस्थिति में अक्षर पटेल ने दूसरे मैच में 64 रनों की पारी खेल कर टीम को जिताया था और मैच के हीरो साबित हुए थे। ऐसे में उन्हें अंतिम मैच से अलग रखने की टीम प्रबंधन की कोई योजना नही होनी चाहिए। अगर जडेजा की उपस्थिति में धवन दो बाएं हाथ के स्पिनरों के साथ उतरना चाहेंगें तो चाहल को बाहर बैठना पड़ सकता है।

अर्शदीप के पास मौका

इस बाएं हाथ के तेज गेंदबाज को टीम में आवेश खान की जगह लिया जा सकता है, जिन्होंने दूसरे मैच में 54 रन दे कर कोई विकेट नही लिया था। अर्शदीप सिंह को इंग्लैंड में वनडे के दौरान जांघ की मांसपेशियों में दिक्कतें आई थी, पर अब वो पूरी तरह फिट है।

Leave a comment

Your email address will not be published.