खूंटी। जिले के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों से वसूली के मामले में अब दोषी शिक्षकों पर गाज गिरनी तय है। जांच टीम ने मामले में डीएसई को जांच रिपोर्ट सौंप दी है। बीईओ ने इस मामले में डीएसई को सौंपी रिपोर्ट में स्कूल के प्राचार्य को दोषी बताया है। स्कूल के नामांकन के नाम पर पैसे लिये गये थे। जांच रिपोर्ट में प्रिंसिपल ने आरोप को निराधार बताया है।

मीडिया रिपोर्ट के आधार पर मामले में डीएसई ने जांच के आदेश दिये थे। 24 जुलाई को डीएसई ने जांच के आदेश दिये, जिसके बाद क्षेत्र शिक्षा पदाधिकारी आशीष हेंब्रम और बीईओ गंगा प्रसाद सिन्हा ने प्रकरण में जांच के लिए पहुंचे थे। इस मामले में डीएसई ने कहा है कि आरोप प्रथम दृष्टिया सही पाये गये हैं, जिसमें स्कूल के प्राचार्य सुधांशु दत्ता पर आरोप है कि उन्होंने 500 से 1000 रूपये तक पैसे नामांकन के नाम पर लिये हैं।

हालांकि जांच अधिकारी को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं. रिश्वत प्रकरण में एसीबी ने बीईओ को गिरफ्तार किया था, सस्पेंड भी हुए थे, सस्पेंशन खत्म होने के बाद उन्हें खूंटी का बीईओ बना दिया गया। शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा जिला शिक्षा अधिकारी ने डीसी को भेजा है।

Leave a comment

Your email address will not be published.