रांची। गैर उर्दू स्कूलों के नाम के साथ उर्दू शब्द जोड़ने को लेकर राज्य सरकार ने सख्त रूख अपनाया है। राज्य सरकार ने आदेश जारी किया है, वैसे स्कूल जो गैर उर्दू हैं, उसके लिए सप्ताहिक अवकाश रविवार को ही होगा, जबकि उर्दू अधिसूचित स्कूलों में शुक्रवार को छुट्टी होगी।प्राथमिक शिक्षा विभाग ने ऐसे सभी स्कूलों से उर्दू शब्द हटाने का आदेश दिया जो उर्दू स्कूलों के रूप में अधिसूचित नहीं हैं। शिक्षा सचिव ने इस बारे में आदेश जारी किया है

। सचिव राजेश कुमार शर्मा ने पत्र जारी कर कहा है कि राज्य के गैर उर्दू स्कूलों में रविवार को कोई शैक्षणिक या शिक्षण गतिविधि संचालित नहीं होगा और रविवार को मिडडे मील भी नहीं दिया जायेगा। आपको बता दें कि पिछले दिनों दुमका के शिकारीपाड़ा ब्लॉक के दस सरकारी स्कूलों, रानीश्वर ब्लॉक के आठ, सरायहाट ब्लॉक के सात, जामा ब्लॉक के दो और जरमुंडी ब्लॉक, काठीकुंड ब्लॉक और दुमका ब्लॉक के सरकारी स्कूलों में शुक्रवार को अवकाश रहने की सूचना है। इनमें से अधिकांश संस्थान स्कूलों के नाम के साथ ‘उर्दू स्कूल’ के नाम के बोर्ड लगे हैं।

यदि कोई व्यक्ति या स्कूल प्रबंधन नये आदेश लागू करने में समस्या पैदा करता है तो उसे सरकारी काम में बाधा डालने के रूप में माना जायेगा। गैर उर्दू स्कूलों में सुबह की प्रार्थना पूर्व की भांति ही जारी रहेगी।  स्कूल के नाम में सिर्फ उर्दू शब्द जोड़ने के बाद कई गैर-उर्दू स्कूल शुक्रवार को साप्ताहिक अवकाश कर रहे थे और रविवार को मिड-डे मील प्रदान कर रहे थे।

आपको बता दें कि झारखंड के कई जिलों से इस बात की शिकायत आ रही थी कि मनमर्जी तरीके से गैर उर्दू स्कूलों में भी शुक्रवार को छुट्टी दी जा रही थी, जबकि रविवार को स्कूल का संचालन हो रहा था और मिड डे मील दिया जा रहा था। मामला संज्ञान में आने के बाद राज्य सरकार ने इसे गंभीरता से लिया और दुमका जिला के डीईओ से रिपोर्ट तलब की।

Leave a comment

Your email address will not be published.