कफ्तान रोहित शर्मा की आतिशी पारी के बाद मिस्टर फिनिशर दिनेश कार्तिक की तेजतर्रार पारी और गेंदबाज़ों के उम्दा प्रदर्शन से भारत ने 5 मैचों की सीरीज के पहले t-20 अंतरराष्ट्रीय में वेस्टइंडीज को 68 रनों के बड़े अंतर से हराया। यहाँ ब्रायन लारा स्टेडियम में हुए पहले मैच वेस्टइंडीज के हक में बस टॉस का जितना रहा।
वेस्टइंडीज के कप्तान ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करने का फैसला लिया जो शुरू से ही सही साबित नही हुआ। रोहित से अपने पुराने अंदाज़ में तूफानी शुरुआत दिलाई और अर्धशतक जड़ा। कप्तान ने अपनी 64 रनों की पारी में 44 गेंदों का सामना करते हुए सात चौके और 2 छक्के जड़े। वहीं अंतिम ओवरों में दिनेश कार्तिक ने अपने हाथ खोले और चार चौके और 2 छक्के की मदद से मात्र 19 गेंदों में 41 रन बनाए। उनकी इस पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच दिया गया। कार्तिक ने अश्विन (नाबाद 13) के साथ सातवें विकेट के लिए 52 रनों की अटूट साझेदारी की। भारत ने धीमी पिच पर अपने तेज़ रफ़्तार की रन गति की मदद से 190 रानो का टोटल खड़ा किया और फिर मेजबान टीम को 122 रनों पर रोक कर 68 रानो के अंतर से जीत दर्ज की। रानो के लिहाज से भारत की यह वेस्टइंडीज पर दूसरी सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले टीम से 6 नवंबर 2018 को हुए मैच में 71 रनों से हराया था जो लखनऊ में हुआ था।

भारतीय गेंदबाजों ने लगातार अंतराल पर विकेट लिए। गेंदबाज़ों का दबदबा इसी से लगाया जा सकता है कि किसी भी भारतीय गेंदबाज ने 6.50 के इकॉनमी से ज्यादा से रन नही दिये। चेस करने उतरी वेस्टइंडीज की टीम ने पावरप्ले के 6 ओवरों में मात्र 42 रन बना कर 3 विकेट खो दिए और फिर टीम इससे उबर नही पाई। भारत की ओर से अर्शदीप, रवि विश्नोई और अश्विन ने 2-2 विकेट लिए। भुवनेश्वर कुमार और रविन्द्र जडेजा को एक-एक विकेट मिला।

वेस्टइंडीज ने टीम चयन में भी गलती की। जहाँ उसने एक ही स्पीनर के साथ प्लेइंग इलेवन को उतारा, वही भारत ने इस मैच में 3 स्पीनर्स उतारे थे, जो पिच की धीमी गति को देखते हुए सही साबित हुआ।

Leave a comment

Your email address will not be published.