रांची: झारखंड में पहली बार एक साथ 258 इंजीनियरों को प्रमोशन मिला है। सीएम हेमंत सोरेन को एक के बाद एक मास्टर स्ट्रोक से सरकारी कर्मी और आम जनता की खूब शाबाशी मिल रही है। इससे पहले पुरानी पेंशन योजना, ओबीसी आरक्षण और 1932 खतियान को कैबिनेट से मंजूरी देने के बाद यह एक और खुशखबरी झारखंड में काम करनेवाले इंजीनियरों के लिए है।

विकास आयुक्त अरुण सिंह की अध्यक्षता में प्रमोशन समिति की बैठक हुई। बैठक में पथ निर्माण विभाग के सचिव सुनील कुमार, जल संसाधन विभाग के सचिव प्रशांत कुमार के अलावा पथ निर्माण के संयुक्त सचिव विजय गुप्ता, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के संयुक्त सचिव पशुपतिनाथ मिश्रा, जल संसाधन विभाग के संयुक्त सचिव अभय नंदन अंबष्ट और अन्य संबंधित अधिकारी भी मौजूद थे। तय किया गया कि झारखंड में काम कर रहे 258 इंजीनियरों को एक साथ प्रमोशन दिया जायेगा। बतौर बैठक के अध्यक्ष अरुण सिंह ने इस मसौदे पर मुहर लगायी और 258 इंजीनियरों के प्रमोशन का रास्ता साफ हो गया। प्रमोशन मिलने के बाद इंजीनिर्यस लॉबी में काफी खुशी देखी जा रही है। इंजीनिर्यसों का कहना है कि झारखंड में पहली बार किसी सरकार ने उनके लिए कुछ अच्छा किया है।

जानें किस विभाग के कितने इंजीनियरों को मिला प्रमोशन

पथ निर्माण विभाग 

  • 26 इंजीनियरों को कार्यपालक अभियंता से अधीक्षण अभियंता में प्रमोशन मिला
  • अनारक्षित कोटे से 17 और अनुसूचित जनजाति के 9 यानी कुल मिला कर 26 इंजीनियरों को प्रमोशन दिया गया।
  • सहायक अभियंता से कार्यपालक अभियंता में कुल 182 इंजीनियरों को प्रमोशन मिला।
  • अनारक्षित कोटे से 136, अनुसूचित जनजाति से 29 और पहले 17 इंजीनियरों को प्रमोशन हुआ।

Leave a comment

Your email address will not be published.