पटना। बिहार में राजनीतिक उथल-पुथल के संकेत शुरू हो गये है। नीतीश कुमार ने अपने विधायकों को निर्देश दिया है कि अगले तीन दिन तक कोई भी विधायक पटना से बाहर नहीं जायेगा। ये फरमान उस वक्त आया है, जब नीतीश कुमार लगातार अपने विधायकों के साथ बैठकें कर रहे हैं। बिहार में फिलहाल राजनीतिक पारा चढ़ा हुआ है। एक तरफ CBI रेड के बाद से आरजेडी ने मोदी सरकार के खिलाफ पोस्टर वार छेड़ रखा है, तो दूसरी तरफ नीतीश कुमार ने अपने विधायकों को पटना में रहने के निर्देश दिए है।


बीजेपी के गठबंधन के साथ सरकार चला रहे नीतीश कुमार के इस फरमान के बाद अब अगले 72 घंटे के लिए बिहार की राजनीति पर सबकी नजर टिकी है। नीतीश कुमार जिस तरह से पिछले कुछ दिनों बिहार की राजनीति में सक्रिय हैं, उसके बाद सियासी उलटफेर की भी चिंता जतायी जा रही है। चर्चा इस बात की भी है कि नीतीश कुमार एक बार फिर से बीजेपी का हाथ छोड़कर कहीं RJD के साथ जुड़ने की तैयारी तो नहीं कर रहे हैं। माना जा रहा है कि 72 घंटे के भीतर बिहार की राजनीति में नया समीकरण देखने को मिल सकता है।


मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक दिन पहले ही पार्टी कार्यालय में अपने मंत्रियों और विधायकों के साथ पूर्व विधायकों के संग भी मुलाकात की थी। इस बैठक के बाद जी नीतीश कुमार से सवाल पूछा गया तो उन्हों ये कहकर पूरे मामले से पल्ला झाड़ लिया कि जिसने रेड किया, वहीं बता सकताहै। नीतीश कुमार के इस बयान को लालू परिवार पर छापेमारी के लिए बीजेपी को जिम्मेदार ठहराने के रूप में देखा जा रहा है।


नीतीश और आरजेडी की करीब आने कोलेकर पिछले कई दिनों से चर्चा चल रही थी, पिछले दिनों इफ्तार पार्टी के दौरान भी नीतीश कुमार लालू परिवार के इफ्तार पार्टी में शामिल हुए थे, वहीं तेजस्वी भी जेडीयू के इफ्तार पार्टी में शामिल हुए थे। बिहार में जातीय जनगणना कराने के मुद्दे पर तेजस्वी ने नीतीश कुमार से मिलने का वक्त मांगा और नीतीश ने 24 घंटे के अंदर ही उन्हें मिलने के लिए बुला लिया। मुलाकात के दौरान ये बातें भी आयी थी कि नीतीश कुमार भी जातीय जनगणना को लेकर तैयार हैं, और जल्द ही इसे लेकर सर्वदलीय बैठक हो सकती है।


पिछले कुछ दिनों के राजनीतिक समीकरण को देखते हुए राजनीतिक पंडित इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं कि बिहार की राजनीति में कुछ ना कुछ खिचड़ी जरूर पक रही है, जो ये बताती है कि बिहार में पालिटिकल तूफान अगले कुछ घंटों में आ सकता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.