देवघर। 2 साल के बाद हो रहे श्रावणी मेले को लेकर देवघर में सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम रखे जाएंगे। सुरक्षा इतनी पुख्ता होगी कि कोई परिंदा भी पर नहीं मार पाएगा। देवघर जिले के 300 से ज्यादा पुलिस बल के अलावा राज्य के 20 जिलों से अतिरिक्त पुलिस बल देवघर बुलाए गए हैं। जानकारी के मुताबिक करीब 12000 पुलिसकर्मियों की श्रावणी मेले में तैनाती की जाएगी। इस दौरान न सिर्फ पुलिसकर्मियों बल्कि ड्रोन कैमरे और कमांड कंट्रोल सिस्टम के जरिए भी हर अनहोनी पर नजर रखी जाएगी। इस बार श्रावणी मेले में ना सिर्फ पुलिसकर्मियों की पुख्ता तैनाती देखी जा रही है, बल्कि स्वास्थ्य कर्मियों की भी बड़ी संख्या में श्रावणी मेला के मद्देनजर तैनाती की गई है।

कोरोना की आहट के बीच हो रहे श्रावणी मेला के मद्देनजर प्रशासन के लिए शांतिपूर्ण और स्वस्थ्य वातावरण में श्रावणी मेला को संपन्न कराना बेहद चुनौतीपूर्ण है। आपको बता दें कि 12 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी देवघर आ रहे हैं। जहां वो देवघर एयरपोर्ट का उद्घाटन करेंगे। लिहाजा सुरक्षा के मद्देनजर पुलिसकर्मियों की बड़ी संख्या में तैनाती की गई है। आज से ही पुलिसकर्मियों की मुस्तैदी देवघर के अलग-अलग हिस्सों में हो जाएगी। पुलिस कर्मियों की आमद के बाद डेढ़ महीने तक पुलिसकर्मी देवघर में ही मौजूद रहेंगे।

8 आईपीएस अफसरों को प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम की सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी संभालने के लिए तैनात किया है। इसके अलावा 120 पुलिस इंस्पेक्टर, 728 एसआई और एएसआई, 1072 हवलदार, 6195 पुलिस जवान, 375 ट्रेनी जवान और 186 महिला पुलिस बल की तैनाती की जाएगी। वहीं 1200 होमगार्ड के जवान भी तैनात रहेंगे। श्रावणी मेला के मद्देनजर ड्रोन कैमरे और कमांड कंट्रोल सिस्टम के जरिए तमाम लोगों पर नजर रखी जाएगी। सभी भीड़ भाड़ वाले इलाकों में विशेष बलों की तैनाती की जाएगी। इसके अलावा कांवरिया पथ और मेला क्षेत्र में 21 अस्थाई थाना बनाने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं 11 अस्थाई ट्रैफिक थाने भी बनाए जाएंगे, ताकि ट्रैफिक व्यवस्था सुचारू रूप से चलती रहे।

Leave a comment

Your email address will not be published.