शतरंज की सबसे बड़ी प्रतियोगिता चेस ओलंपियाड 28 जुलाई यानी आज से तमिलनाडु में शुरू हो चुका है। इसका आगाज माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया। पहली बार इस ओलंपियाड का आयोजन भारत में किया जा रहा है और इस प्रतियोगिता में रिकॉर्ड खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। जहाँ ओपन वर्ग में 188 खिलाड़ी भाग लेने को तैयार है, वहीं महिला वर्ग में 162 खिलाड़ी अपनी चाल से शह-मात करते नज़र आएंगे। इसकी मसाल रिले पिछले 40 दिनों में 75 शहरों से होते हुए तमिलनाडु के मामल्लापुरम पहुँची है। यह शहर चेन्नई से 50 किलोमीटर की दूरी पर है। यह चेस ओलंपियाड का 44वां संस्करण है। इसका उद्घाटन नरेंद्र मोदी ने किया। इस मौके पर तमिलनाडु के राज्यपाल आर एन रवि, राज्य के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन, खेलमंत्री अनुराग ठाकुर, सुपरस्टार रजनीकांत, संगीतकार ए आर रहमान जैसे दिग्गज भी जवाहर लाल नेहरू इंडोर स्टेडियम में मौजूद रहे।

उद्घाटन समारोह में मोदी ने कहा

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, ‘मैं 44वें शतरंज ओलंपियाड में आप सभी का स्वागत करता हूँ। टूर्नामेंट का आयोजन शतरंज के घर में आ गया है। यह हमारे देश के लिए काफी महत्वपूर्ण समय है। साथियों, मैं इस टूर्नामेंट के आयोजकों को बधाई देना चाहता हूँ। बहुत ही कम समय में उन्होंने बेहतरीन इंतजाम किए हैं।’
उन्होंने आगे यह भी कहा कि, ‘इस खेल को हमेशा से ही दिव्य माना गया है, जिस जगह पर यह हो रहा है वह सबसे फिट है। शतरंज का खेल तो भगवान ने भी खेला है। तमिलनाडु का शतरंज से गहरा औऱ ऐतिहासिक संबंध रहा है। तमिलनाडु भारत के लिए शतरंज का पावरहाउस है। इसने दुनिया की सबसे पुरानी तमिल भाषा के साथ ही कई ग्रैंडमास्टर्स को भी जन्म दिया है।’

Leave a comment

Your email address will not be published.