पलामू। एक शराब दुकान के सेल्स मैनेजर पर 31 लाख के गबन का आरोप लगा है। शराब बिक्री के बाद मिले पैसे को सेल्स मैनेजर ने बैंक में जमा नहीं कराया। फर्जी हस्ताक्षर और दस्तावेज के दम पर सेल्समैन लाखों की हेराफेरी करता रहा। इस मामले को लेकर विभाग और चैनपुर थाना में मामला दर्ज कराने की तैयारी में है। सेल्समैन का नाम श्रवण चौरसिया बताया जा रहा है।

इस पूरे मामले की जांच में अब कई नई बातें सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि श्रवण ने इतनी बड़ी रकम गायब करने के लिए बैंक के फर्जी वाउचर वह मोहर का इस्तेमाल किया था। साथ ही जमा पर्ची पर्ची पर हस्ताक्षर भी फर्जी किया था। उत्पाद विभाग के नियम के मुताबिक शराब बेचने के बाद बैंक में सरकारी खाते में पैसा जमा कराना होता है। श्रवण ने फर्जी दस्तावेज दिखाया और पैसे अपने पास रखता रहा। बैंक की फर्जी जमा पर्ची विभाग को देकर 4 महीने से वह पैसे गायब करने का खेल खेलता रहा।

यह पूरा मामला तब सामने आया जब विभागीय ऑडिट किया गया। इससे पता चला कि शराब की बिक्री और बैंक में जमा कराए गए पैसों में गड़बड़ी है। ऑडिट के खाते से 31 लाख रुपए गायब थे। पैसे की जांच शुरू हुई, जिसमें पथरा दुकान से बैंक में पैसे नहीं जमा होने की जानकारी मिली। बैंक की जाली मुहर, साइन किया फर्जी चालान विभाग में जमा किया गया।

शराब दुकान में यह गड़बड़ी जून महीने से की जा रही थी। इस मामले में उत्पाद विभाग से मैनेजर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की तैयारी की जा रही है। इस मामले पर चैनपुर थाना प्रभारी अक्षय कुमार ने बताया कि उत्पाद अधीक्षक विमला लकड़ा थाना गई थी। उत्पाद अधीक्षक ने बताया कि मामले की जांच चल रही है। संबंधित थाना में सेल्स मैनेजर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.