रांची: झारखंड में यूपीए महागठबंधन के सहयोगी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा कांग्रेस और राजद ने प्रदेश भर में रैलियां निकालने का फैसला लिया है। जिसका मकसद पिछले 3 सालों में सरकार की हासिल की गई उपलब्धियों के बारे में जनता को बताना और उनके प्रतिक्रिया जानना है। एक मंत्री ने शुक्रवार को यह जानकारी दी है। मालूम हो कि हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार 29 दिसंबर को सत्ता में अपने 3 साल पूरे कर रही है।

पार्टी के प्रवक्ता विनोद पांडे ने समाचार एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए बताया कि 8 दिसंबर से रैलियां निकाली जाएंगी। इस पर फैसला गुरुवार शाम को सीएम सोरेन की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में ली गई। उन्होंने कहा इसकी कार्यसूची तैयार की जा रही है। जिसका खुलासा जल्द किया जाएगा।

सरकार की उपलब्धियों का मनाया जाएगा जश्न

सत्तारूढ़ महागठबंधन के सूत्रों ने कहा है कि कार्यक्रम को “खतियानी जोहार यात्रा” का नाम दिए जाने की संभावना है। क्योंकि यह 1932 के भूमि रिकॉर्ड के आधार पर सरकार की नई अधिवास नीति के साथ-साथ ओबीसी के लिए 27% आरक्षण, पुरानी पेंशन योजना, किसानों के लिए ऋण माफी योजना और फसल राहत योजना जैसी उपलब्धियों के जश्न के रूप में मनाई जाएगी।

राज्य के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम ने बताया कि राज्य के हर जिले में यूपीए के सहयोगी संयुक्त रूप से रैलियां निकालेंगे, जिसमें सीएम हेमंत सोरेन सहित अन्य वरिष्ठ नेता भी शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि रैलियों में जन कल्याण के लिए शुरू की गई हमारी तमाम योजनाओं के बारे में बताया जाएगा। जिनका वादा हमने चुनावी घोषणा पत्र में किया था। इसके अलावा सरकार के प्रदर्शन पर लोगों की प्रतिक्रिया जाने के लिए एक सर्वेक्षण भी किया जाएगा। कार्यक्रम के तहत लोगों की मांगों को भी सूचीबद्ध किया।