रांची। झारखंड में हेमंत सोरेन की कुर्सी जायेगी या बचेगी ? इस सस्पेंस से अब तक पर्दा नहीं उठा है। इस राजनीतिक अनिश्चितता के बीच खबर है कि हेमंत सोरेन सरकार विश्वास मत प्राप्त विधानसभा का विशेष सत्र 5 सितंबर को बुलाया गया है।

हालांकि इस विशेष सत्र को लेकर कहा जा रहा है कि ये विशेष सत्र नहीं, बल्कि मॉनसून सत्र के एक दिन की बची अवधि के सत्रावासन का दिन है। संभावना जतायी जा रही है कि सत्र के दौरान राज्य सरकार कोई बड़ा फैसला ले सकती है।

सूत्रों ने बताया कि राज्य सरकार जातीय जनगणना, स्थानीय नीति का कट ऑफ डेट 1932 करने और ओबीसी के आरक्षण बढ़ाने पर बड़ा फैसला ले सकती है। इधर खबर है कि राज्यपाल ने गृह मंत्री अमित शाह से फोन पर बात की है और मिलने का समय मांगा है। जानकारी के मुताबिक गृह मंत्री अमित शाह के दिल्ली से बाहर होने के कारण समय नहीं मिल पाया है। बता दें कि राज्यपाल रमेश बैस आज झारखंड वापस लौटने वाले थे लेकिन मिली जानकारी के अनुसार अब शनिवार को भी वह दिल्ली में रुकेंगे।

दरअसल, झारखंड के राजनीतिक हालात को लेकर इन दिनों सियासी गलियारों में कई कयास लगाए जा रहे हैं। राज्यपाल रमेश बैस शुक्रवार को दिल्ली पहुंचे थे। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सदस्यता को लेकर बरकरार संशय पर झारखंड राज्यपाल का ये दिल्ली दौरा बेहद अहम माना जा रहा है। माना जा रहा है कि इस पूरे प्रकरण को लेकर झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस केंद्र को रिपोर्ट सौंप सकते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.