सरायकेला। झारखंड के सरायकेला के आदित्यपुर में 29 जून की रात पूर्व विधायक अरविंद सिंह के साले कन्हैया सिंह की हत्या में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। कारोबारी कन्हैया सिंह के मर्डर की मास्टर माइंट कोई और नहीं, बल्कि उसकी अपनी ही बेटी थी। बेटी ने ही अपने पिता की मर्डर की सुपारी दी थी। प्रेम प्रसंग और बदले की वजह से इस पूरी वारदात को अंजाम दिया गया था। मृतक की बेटी इसकी मास्टर माइंड थी। पुलिस के मुताबिक कन्हैया सिंह की हत्या प्रेम में बाधा और राजवीर सिंह के परिवार को आदित्यपुर से भगाने के बदला स्वरूप हुई है। दरअसल कन्हैया सिंह की बेटी अपर्णा अपने प्रेमी राजवीर से शादी करना चाहती थी, लेकिन कन्हैया को ये रिश्ता कबूल नहीं थी। कन्हैया सिंह ने जब इस प्रेम संबंध के बारे में जाना तो उसने राजवीर सिंह और उसके परिवारवालों से ना सिर्फ मारपीट की, बल्कि उसे आदित्यपुर से भगा भी दिया। इसी का बदला लेने ये पूरी वारदात हुई थी।

पुलिस ने इस मामले का खुलासा करते हुए बताया कि कन्हैया सिंह की बेटी ही अपने पिता की लोकेशन बार-बार हत्यारों को दे रही थी। हत्या की पूरी राजिश 20 जून को हो रच दी गयी थी, लेकिन पटना में हत्या का माकुल जगह नहीं मिल पाया। 20 जून की रात हत्या का मुख्य आरोपी राजवीर अपने शूटर दोस्त निखिल गुप्ता को साथ लेकर कांग्रेस जिलाध्यक्ष छोटे राय किस्कू को लेकर पटना गया था। इसका लोकेशन भी मृतक कन्हैया सिंह की बेटी अपर्णा ने ही दिया था।

पटना मे निखिल को देशी कट्टा सौरभ किस्कू ने उपलब्ध कराया था। सौरभ ने 8500 रूपये में देशी कट्टा और एक गोली उपलब्ध कराया था। इस मामले में पुलिस ने चार लोगों को गिरप्तार किया है। इसमें राजवीर सिंह, अपर्णा सिंह, निखिल गुप्ता और सौरभ किस्कू शामिल हैं। इस मामले में छोटू और रवि सरदार अभी फरार है। पुलिस ने आरोपी निखिल के पास से हत्या के वक्त पहने कपड़े, जूते, देशी कट्टा, खोखा और 4 मोबाइल जब्त किये हैं।

दरअसल राजवीर सिंह और अपर्णा सिंह 5 साल से प्रेम संबंध में है। डीएवी में राजवीर 10वीं में और अपर्णा 8वीं में पढती थी। राजवीर का पूरा परिवार मांझी टोला में रहता था। कन्हैया सिंह को जब अपर्णा और राजवीर के प्रेम संबंध का पता चला तो उसने राजवीर ही नहीं उसके पूरे परिवार को पीटा। कन्हैया सिंह ने राजवीर के परिवार की इतनी दुर्दशा कर दी कि राजवीर का परिवार अपनी पैतृक जमीन को बेचकर किराये के मकान में रहने को मजबूर हो गया।

अपने प्रेमी के साथ पिता कन्हैया सिंह के व्यवहार के बेटी अपर्णा काफी नाराज थी, इसलिए उसने प्रेमी के साथ मिलकर मर्डर की पूरी प्लानिंग तैयार कर ली। अपर्णा ने हत्या के लिए अपने प्रेमी के साथ मिलकर पिता की सुपारी दी। इसे लेकर अपर्णा ने अपने हीरे की अंगुठी प्रेमी के हवाले कर दिया। वहीं राजवीर ने शूटर निखिल गुप्ता से संपर्क किया और उसे 4 हजार रुपये नकद और एक हीरे की अगुठी में हत्या करने पर राजी कर लिया। कुछ पैसे काम हो जाने के बाद देने को कहा था।  29 जून रात 9:45 में कन्हैया सिंह की आदित्यपुर के हरिओम नगर के घर में दरवाजे के पास ही गोली मारकर हत्या कर दी गई। पड़ोसियों के मुताबिक, तीन बदमाश पीछा करते घर तक आये। वहीं, फायरिंग की आवाज सुनी तो एक शूटर को भागते हुए देखा।

Leave a comment

Your email address will not be published.