हजारीबाग: चौपारण पंचायत के ब्राह्मोर्य पंचायत के पंचायत सेवक अशोक कुमार दास को एसीबी ने पकड़ा है। एसीबी टीम ने पंचायत सेवक को गिरफ्तार कर हजारीबाग ले आयी है। उससे पूछताछ की जा रही है। पंचायत सेवक ने पीएम आवास की राशि निर्गत करने के नाम पर 20 हजार रुपये रिश्वत ले रहा था, इसी क्रम में एसीबी ने उसे दबोच लिया।

इस पूरे मामले पर पूर्व विधायक रामलखन सिंह ने कहा, कल्याणकारी योजनाओं में घुस मांगना अपराध है। पर झारखंड हो या भारत हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार भरा पड़ा है। निगरानी विभाग का काम बहुत ही अच्छा है। पर एसीबी मगरमछ को नही छोटी पोठी मछली को ही पकड़ने का काम कर सकती है। मगरमच्छ पर हाथ नही लगा पाती है । निगरानी विभाग का नेतृत्व एसीबी डीएसपी द्वारा किया गया। एसीबी डीएसपी के साथ 3 इंस्पेक्टर एवं 2 एसआई शामिल थे। उनके इस कदम की खूब तारीफ हो रही है।

बरहमौरिया पंचायत के ग्राम हथिया निवासी गणेश यादव पिता रामेश्वर यादव के नाम 2021-22 पीएम योजना में प्रधानमंत्री आवास मिला था। जिसके लिए पंचायत सेवक अशोक कुमार 10 हजार रुपये की मांग की थी।

आर्थिक तंगी से जूझ रहे गणेश ने बताया पंचायत सेवक धमकी दे रहा था कि रुपया नही दोगे तो तुम्हारा आवास दूसरे के नाम कर देंगे। कुछ लोगों ने मुझे एसीबी के संबंध में जानकारी दी। एसीबी द्वारा दिये गये 5000 रुपये को मैंने पंचायत सेवक अशोक कुमार को दिया और एसीबी ने रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। हजारीबाग । पंचायत सेवक अशोक कुमार एक वर्ष पूर्व बरही प्रखंड से स्थानांतरण होकर चौपारण आये थे। इन्हें प्रखंड के 26 पंचायत में से 3 पंचायत रामपुर, दादपुर और बरहमौरिया पंचायत की जिम्मेदारी दी गयी थी।

Leave a comment

Your email address will not be published.