गोड्डा। OPS महासम्मेलन एक मिशन बन गया है। जिस तरह से महासम्मेलन को लेकर एक शुभ संकेत मिल रहा है, उसने ना सिर्फ कर्मचारियों को उत्साहित कर दिया है, बल्कि ये अहसास भी कराया है कि पुरानी पेंशन को लेकर उनकी लड़ाई अब मुकाम पर पहुंचने वाली है। सालों के संघर्ष, रैली, ज्ञापन, सोशल मीडिया वार जैसे आयोजनों ने सरकार का ध्यान आकृष्ट कराया और अब वो लम्हा करीब दिख रहा है, जहां ये माना जा रहा है कि 26 जून की तारीख झारखंड के कर्मचारियों के इतिहास में अमिट बन जायेगा।

झारखंड NMOPS प्रदेश संगठन की तरफ से जिला ईकाईयों को निर्देश के बाद अब जिलों में भी सांगठनिक तौर पर काफी सक्रियता से काम किया जा रहा है। जिला संयोजक डा सुमन कुमार के नेतृत्व में लगातार बैठकों का दौर चल रहा है। पिछले दिनों हुई बैठक में जिस तरह से जिले से करीब 2000 से ज्यादा की संख्या में कर्मचारियों के रांची कूच करने का आह्वान किया गया था, अब वो आह्वान भी रंग लाता दिख रहा है।

इधर, महासम्मेलन में जाने को लेकर डा सुमन की तरफ से कर्मचारियों से अपील की गयी है। उन्होंने कर्मचारियों से कहा है कि महासम्मेलन में जाने वाला कोई भी NPS कर्मी व्यक्तिगत रूप से खर्च कर बस का टिकट ना ले। गोड्डा जिला की तरफ से आह्वान किया गया है कि सामूहिक प्रयास से सभी एनपीएस कर्मियों को रांची ले जाया जायेगा।

डा सुमन ने कर्मचारियों से अपील है कि सभी कर्मचारी सांगठनिक और सामूहिक प्रयास से रांची पहुंचेंगे। सभी कर्मचारी बस को रिजर्व कर एक साथ रांची जांयेगा। इस तरह ना सिर्फ सभी कर्मचारी की एकजुटता नजर आयेगी, बल्कि परस्पर सहयोग की भावना भी जागृत होगी। .. .

डॉ सुमन ने ये भी कहा कि महासम्मेलन कर्मचारियों के लिए यादगार रहे और महासम्मेलन से हम परिणाममूलक अहसास के साथ लौटे, इसकी कोशिश है। हम सभी कर्मचारी एक साथ रांची जायेंगे। इसका मकसद यही है कि कर्मचारियों में परस्पर सहयोग की भावना जागृत हो, साथ ही कर्मचारियों की चट्टानी एकता भी परदर्शित हो। सभी बसों का काफिला एक साथ गोड्डा के गांधी के गेट से उपायुक्त महोदय के द्वारा हरी झंडी दिखाकर विदा करवाने की योजना है।

आपको बता दें कि 26 जून को रांची के मोहराबादी मैदान में NMOPS की तरफ से OPS महासम्मेलन का आयोजन किया गया है, जिसमें खुद मुख्यमत्री हेमंत सोरेन भी मौजूद रहेंगे। उम्मीद है कि एनएमओपीएस के मंच से मुख्यमंत्री पुरानी पेंशन का ऐलान कर देंगे। प्रदेश भर से करीब 20 से 25 हजार कर्मचारियों के रांची में जुटने की संभावना है।

Leave a comment

Your email address will not be published.