रांची : सिमडेगा जिले के ठेठईटांगर में 12 ऐसी महिलाओं का पता चला है जिन्होंने विधवा पेंशन की लालच में अपने पति को मरा हुआ बता दिया और योजना का लाभ भी लेती रही। ठेठईटांगर के कोरोमियां पंचायत में इन महिलाओं की पहचान होने के बाद बीडीओ पंकज कुमार ने थाना में आवेदन दिया है। इनके खिलाफ कार्रवाई की अपील की गयी कि इन्होंने योजनाओं का लाभ लेने के लिए गलत जानकारी साझा की। पंचायत में 9 सितंबर को आयोजित जांच शिविर में यह मामला सामने आ गया।

बीडीओ पंकज कुमार ने कहा, सर्वजन पेंशन अंतर्गत मुख्यमंत्री राज्य महिला निराश्रित, विधवा महिला सम्मान योजना के तहत एकल अथवा विधवा महिला को इसका लाभ दिया जाता है। इस योजना का लाभ विवाहित महिलाएं ले रही थी जिनके पति जीवित हैं। गलत तरीकों से योजना का लाभ उठा रही है। सभी आरोपियों ने अबतक फर्जी तरीके से सरकार से 1,04000 रुपये की निकासी की है।

पिछले साल जून से ले रही है लाभ

फर्जी विधवा पेंशन प्राप्त करने वाले आरोपी महिलाएं पिछले साल जून माह से योजना के तहत लाभ ले रही हैं। इनमें गुड़िया देवी को 13000, रीता देवी10000, सावित्री देवी को 9000, शानियारो देवी को 8000, कष्टी देवी को 8000, फूलवती देवी 8000, गुड्डी देवी को 8000, शहरी देवी को 8000, मैनी देवी को 8000, तारा देवी को 8000, ललिता देवी को 8000, पुनिया देवी को 8000 रुपए अबतक मिले हैं।

कैसे हुआ मामले का खुलासा

यह मामला सामने तब आया जब 9 सितंबर को पंचायत भवन में आयोजित फिजिकल वैरिफिकेशन कैंप में हुआ सरकारी पेंशन से जुड़े लाभुकों के नाम ग्रामीणों को सुनाए गए। जिनमे इन 12 महिलाओं के भी नाम शामिल थे। इसके बाद मामला बीडीओ पंकज कुमार के पास पहुंचा, जिस पर उन्होंने अपने स्तर से क्रॉस वेरिफिकेशन किया और आरोप की पुष्टि होने के बाद उन्होंने लाभुकों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करवाई।

HPBL Desk

हर खबर आप तक सबसे सच्ची और सबसे पक्की पहुंचे। ब्रेकिंग खबरें, फिर चाहे वो राजनीति...