रांची । झारखंड से सटे छत्तीसगढ़ के जशपुर में डाक्टरों ने मारपीट के बाद अपना सामूहिक इस्तीफा दे दिया है। आरोप है है कि आधी रात इंस्पेक्शन के लिए पहुंचे संसदीय सचिव व कलेक्टर के साथ आये लोगों ने नशे की हालत में डाक्टरों से मारपीट की। इधर, HPBL न्यूज के बातचीत में कलेक्टर रीतेश अग्रवाल ने मामले में जाच के आदेश दे दिये हैं। जशपुर के दुलदुहा स्वास्थ्य केंद्र में आधी रात उस वक्त हंगामा हो गया, जब कलेक्टर और संसदीय सचिव के साथ आये निरीक्षण दल ने डाक्टरों से मारपीट कर दी। मामले में नाराज CHC दुलदुला में पदस्थ दो डाक्टर डा निशांत सोनवानी, महेश्वर माणिक ने देर रात ही BMO को ही अपना इस्तीफा दे दिया। इस्तीफे में आरोप है कि नशे के हालत में कलेक्टर व संसदीय सचिव के साथ आये लोगों ने उनके साथ मारपीट की, जिससे वो आहत होकर अपना इस्तीफा दे रहे हैं। घटना देर रात दुलदुला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है। मामले में मारपीट का CCTV फुटेज भी सामने आये है।

जानकारी के मुताबित दुलदुला प्राथमिक स्वसाथ्य केंद्र में देर रात करीब 11.45 बजे कलेक्टर रीतेश अग्रवाल और संसदीय सचिव यूडी मिंज इंस्पेक्शन के लिए पहुंचे थे। इस दौरान नशे में धुत्त कुछ लोगों ने डाक्टरों के साथ मारपीट की और डाक्टरों के साथ धक्का मुकी शुरू कर दी। हालांकि खबरें ये आ रही है कि कलेक्टर और संसदीय सचिव के निरीक्षण से जाने के बाद ये मारपीट हुई है। लेकिन पत्र में कलेक्टर और संसदीय सचिव का भी नाम डाक्टरों ने जिक्र किया है।

त्यागपत्र के साथ वायरल वीडियों में साफ नजर आ रहा है कि एक काले टी शर्ट में पहना युवक दौड़कर डाक्टर के पास पहुंचता है और फिस मारपीट करने लगता है। उस दौरान कुछ लोग और भी खड़े नजर आ रहे हैं। हालांकि वो स्वास्थ्यकर्मी हैं या फिर निरीक्षण दल के साथ आये हुए लोग, इस बारे में जानकारी नहीं मिल पायी है।

रात करीब 11.3-11.45 बजे माननीय संसदीय सचिव और माननीय कलेक्टर साहब आये थे। उनके साथ कुछ लोग और भी थे। कलेक्टर व संसदीय सचिव के इंस्पेक्शन तक तो सबकुछ ठीक था, लेकिन जब कलेक्टर व संसदीय सचिव जाने लगे तो कुछ साथ आये लोगों ने डाक्टरों से उलझना शुरू कर दिया। बार-बार वो कह रहे थे कि तुमलोग क्लिनिक चलाते हों, हमलोगों में से कोई भी चाहे डा माणिक हो या मैं…..कोई भी क्लिनिक नहीं चलाते हैं। अगर कोई मरीज घर आ जाता है तो उसे देख लेते हैं, लेकिन वो बार-बार क्लिनिक के मुद्दे पर विवाद कर रहे थे। विवाद जब बढ़ने लगा तो हमलोग हास्पीटल के अंदर आने लगे, इसी बीच एक काले टी शर्ट पहना युवक आया और डाक्टर मानिक को मारने लगा। मुझे लगा कि वो नशे में है। इस मामले में मैंने और डाक्टर माणिक ने इस्तीफा बीएमओ मैडम को दे दिया है। जब तक कार्रवाई नहीं होगी, हमलोग ड्यूटी ज्वाइन नहीं करेंगे।

इस मामले में शिकायत मिली है, मैंने हर बिंदु पर जांच के निर्देश दिये हैं। अपर कलेक्टर को मैंने जांच के निर्देश दिये हैं। 31 मई तक मैंने रिपोर्ट मांगी है, जांच रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जायेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.